वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड – क्या आपको चुनना चाहिए?

VPF का मतलब स्वैच्छिक भविष्य निधि (Voluntary Provident Fund) है। स्वैच्छिक भविष्य निधि, जिसे स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति निधि (Voluntary Retirement Fund) के रूप में भी जाना जाता है, एक कर्मचारी द्वारा अपने बेहतर भविष्य के लिए दिया गया एक स्वैच्छिक योगदान है।

यह योगदान किसी कर्मचारी द्वारा अपने EPF में किए गए योगदान के 12% से अधिक है। अधिकतम योगदान कर्मचारी के मूल वेतन और महंगाई भत्ते के 100% तक किया जा सकता है। EPF के समान ही VPF स्कीम में ब्याज मिलता है।

केवल वेतनभोगी व्यक्ति ही वीपीएफ में निवेश कर सकते हैं। इसमें न्यूनतम और अधिकतम निवेश की कोई सीमा तय नहीं है, वे अपनी बचत के अनुसार निवेश करने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र है। आप इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) के बारे में भी जान सकते है।

वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड के नियम एवं दिशानिर्देश

  • VPF केवल वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए उपलब्ध है।
  • वीपीएफ में योगदान स्वैच्छिक है ना कि अनिवार्य।
  • ब्याज दर प्रत्येक वित्तीय वर्ष के शुरुआत में भारत सरकार द्वारा तय की जाती है।
  • VPF योजना का लाभ केवल EPF में नामांकित वेतनभोगी पेशेवर ही उठा सकते हैं।
  • नियोक्ता अपने कर्मचारियों के वीपीएफ पोर्टफोलियो में योगदान करने के लिए बाध्य नहीं हैं।
  • इसी तरह, एक कर्मचारी भी योजना में योगदान करने के लिए बाध्य नहीं है।
  • फिलहाल, इस योजना के तहत 8.5 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिलता है।
  • प्रति वर्ष 1.5 लाख तक अंशदान (Contribution) व अर्जित ब्याज, धारा 80C के तहत कर से मुक्त है।
  • नौकरी बदलने पर VPF खाते को एक नियोक्ता से दूसरे नियोक्ता को आसानी से स्थानांतरित किया जा सकता है।
  • एक बार VPF में योगदान का विकल्प चुनने के बाद, इसे 5 साल की आधार अवधि के पूरा होने से पहले बंद नहीं किया जा सकता है।
  • यदि किसी भी तरह से प्रत्यक्ष कर संहिता लागू हो जाती है, तो पूरी परिपक्वता राशि कर योग्य हो जाती है।
  • आप VPF में निवेश के रूप में मूल वेतन और महंगाई भत्ते का 100% योगदान कर सकते हैं।
  • अगर वीपीएफ का पैसा पांच साल के भीतर निकाला जाता है तो आपको वीपीएफ में अपने योगदान से अर्जित ब्याज राशि पर टैक्स देना होगा।

वीपीएफ में नामांकन कैसे करें?

  • इस योजना का लाभ केवल EPF में नामांकित वेतनभोगी पेशेवर ही उठा सकते हैं।
  • यदि ऑर्गेनाइजेशन वीपीएफ विकल्प प्रदान करती है, तो कर्मचारी वित्तीय वर्ष में किसी भी समय इसका विकल्प चुन सकता है।
  • VPF के लिए आवेदन पत्र को आपकी कंपनी के प्रबंधक के पास विधिवत भरा हुआ जमा करना होगा।
  • आप अपने मूल वेतन और महंगाई भत्ते का अधिकतम 100% योगदान कर सकते हैं।
  • वीपीएफ की ब्याज दर पीएफ के बराबर होती है जो सरकार द्वारा समय-समय पर निर्धारित की जाती है।
  • आप 5 साल से पहले अपना पैसा नहीं निकाल सकते और 5 साल की लॉक-इन अवधि के बाद निकासी पूरी तरह से कर-मुक्त है।
  • कर्मचारी वीपीएफ के पैसे का इस्तेमाल शादी, घर खरीदने, बच्चों की शिक्षा आदि के लिए कर सकते हैं।

वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड (VPF) किसके लिए उपयुक्त है?

  • वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड निवेश करने के लिए एक बेहतरीन विकल्प है उन लोगों के लिए जो जॉब करते हैं, वेतनभोगी है और अपने रिटायरमेंट का इंतजार कर रहे है।
  • कम जोखिम लेने वाले वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए यह विकल्प एक बेहतरीन निवेश विकल्प है।
  • अगर आप रिटायरमेंट के बाद एक निश्चित आय पाना चाहते हैं बिना किसी जोखिम के तो इसमें निवेश कर सकते हैं।
  • यह प्लान शॉर्ट टर्म और ज्यादा जोखिम लेकर के हाई रिटर्न प्राप्त करने वाले लोगों के लिए उपयुक्त नहीं है।

वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड में कौन निवेश कर सकता है?

वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड विकल्प केवल वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए उपलब्ध है जो एक विशिष्ट वेतन खाते के माध्यम से अपना मासिक भुगतान प्राप्त करते हैं। आप VPF के अतिरिक्त म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते है।

VPF खाता खोलने के लिए कौन पात्र है?

कंपनी के पेरोल पर मौजूद सभी कर्मचारी वीपीएफ खाता खोलने के पात्र व योग्य हैं।

वीपीएफ खाता खोलने की प्रक्रिया क्या है?

ईपीएफ को वीपीएफ खाते में बदलना बहुत आसान है। वीपीएफ खाता खोलने के लिए नियोक्ता को सूचित किया जाना चाहिए।

अगर मैं नौकरी बदलता हूं तो क्या मेरा वीपीएफ खाता प्रभावित होगा?

नहीं, VPF अकाउंट आपके आधार कार्ड से लिंक होता है इसलिए, अपने खाते को एक कंपनी से दूसरी कंपनी में स्थानांतरित करना बहुत आसान है।

क्या VPF प्लान आपके रिटायरमेंट के लिए बचत करने का एक अच्छा तरीका है?

नहीं, केवल ईपीएफ और वीपीएफ में निवेश करना आपकी सेवानिवृत्ति के लिए बचत करने का सबसे अच्छा तरीका नहीं है क्योंकि आपको लगभग 8.5 प्रतिशत की एक निश्चित ब्याज दर मिलेगी जो मुद्रास्फीति को कवर करने के लिए पर्याप्त नहीं है। लेकिन फिर भी, सेविंग खाता और बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट से अच्छा विकल्प है।