स्टॉक के प्रकार (Types of Stocks)

स्टॉक मार्केट में निवेश करने और बेहतरीन रिटर्न पाने के लिए आपको अलग-अलग स्टॉक के प्रकार (Types of Stocks) के बारे में जानकारी होनी चाहिए। भारतीय स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड विभिन्न प्रकार के स्टॉक अपने स्वभाव, जोखिम व प्रकृति के आधार पर अलग-अलग होते हैं।

शेयर बाजार वह जगह है जहां निवेशक अपना पैसा निवेश करने के लिए जुड़ते हैं। यह स्टॉक ट्रेडिंग का एक समूह है जहां कंपनियां ट्रेडिंग के लिए शेयर और अन्य प्रतिभूतियां जारी करती हैं। परफॉर्मेंस के आधार पर दुनियाभर में भारतीय शेयर बाजार काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहा है।

स्टॉक के प्रकार (Types of Stocks)

अलग-अलग प्रकार के स्टॉक के बारे में जानकारी निवेशकों के लिए ज्यादा इनकम जनरेट करने में मदद कर सकती है। निवेशक अपने बजट, रिस्क कैपेसिटी, नॉलेज और लॉन्ग टर्म-शॉर्ट टर्म गोल के आधार पर विभिन्न प्रकार के स्टॉक्स में निवेश कर सकते हैं।

सामान्य स्टॉक (Common Stocks)

सामान्य स्टॉक को साधारण शेयरों के रूप में भी संदर्भित किया जाता है जो किसी कंपनी में आंशिक स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करते हैं। आप अपनी बजट क्षमता के अनुसार इन्हें सीधे शेयर बाजार में ट्रेड कर सकते हैं। कंपनी के संस्थापक और कर्मचारी आमतौर पर सामान्य स्टॉक प्राप्त करते हैं।

प्रिफर्ड स्टॉक (Preferred Stocks)

परिफरेंस स्टॉक या प्रिफर्ड स्टॉक आम शेयरधारकों को लाभांश जारी करने से पहले परिफरेंस स्टॉक धारक को नियमित लाभांश भुगतान का अधिकार देता है। परिफरेंस स्टॉक वोटिंग अधिकार नहीं रखते है लेकिन जब लाभांश की बात आती है तो प्रिफर्ड शेयरधारकों की आम शेयरधारकों पर प्राथमिकता होती है।

ब्लू-चिप स्टॉक (Blue-chip Stocks)

ब्लू-चिप स्टॉक अच्छी तरह से स्थापित कंपनियां हैं। उनके पास भरोसेमंद कमाई पैदा करने और अपने क्षेत्र में अग्रणी होने का एक लंबा सफल ट्रैक रिकॉर्ड होता है। जब स्थिर रिटर्न की बात आती है तो ब्लू चिप स्टॉक सबसे विश्वसनीय होते हैं और ये लॉन्ग टर्म गोल व कम जोखिम वाले निवेशकों के लिए उपयुक्त माने जाते हैं।

आईपीओ स्टॉक (IPO Stocks)

जब कोई कंपनी सार्वजनिक होना चाहती है, तो वह प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश यानी Initial Public Offering (आईपीओ) के माध्यम से स्टॉक जारी करती है। आईपीओ स्टॉक आमतौर पर स्टॉक एक्सचेंज में कंपनी के स्टॉक लिस्टिंग से पहले छूट पर आवंटित किये जाते है। ये स्टॉक मार्केट की शुरुआत करने वाले निवेशकों के लिए एक अच्छा विकल्प है।

पेनी स्टॉक (Penny Stocks)

पेनी स्टॉक बहुत कम मूल्य के इक्विटी स्टॉक हैं और इन्हें अत्यधिक सट्टा वाला माना जाता है। ये छोटी और नई कंपनियों के सामान्य शेयरों को संदर्भित करते है इसलिए निवेशकों को पेनी स्टॉक में निवेश करते समय सावधान रहना चाहिए। पेनी स्टॉक में खरीद और बिक्री के ऑर्डर देते समय निवेशकों को लिमिट ऑर्डर का उपयोग करना चाहिए।

चक्रीय स्टॉक (Cyclical Stocks)

चक्रीय स्टॉक अर्थव्यवस्था के प्रदर्शन से सीधे प्रभावित होते हैं और आमतौर पर विस्तार, मंदी जैसे आर्थिक चक्रों का पालन करते हैं। ये आर्थिक मजबूती के समय में अन्य शेयरों से बेहतर प्रदर्शन करते हैं। ये जोखिम लेने वाले और तुरंत कमाई करने वाले निवेशकों के लिए बेहतरीन ऑप्शन है।

गैर-चक्रीय स्टॉक (Non-cyclical Stocks)

गैर-चक्रीय स्टॉक वे स्टॉक हैं जो आर्थिक अस्थिरता के बावजूद शेयर बाजार में अपने उद्योग से बेहतर प्रदर्शन करते हैं। ऐसे स्टॉक अक्सर आम आदमी की दैनिक जरूरतों से जुड़े होते हैं। गैर-चक्रीय स्टॉक आमतौर पर आर्थिक मंदी में चक्रीय शेयरों से बेहतर प्रदर्शन करते हैं क्योंकि मुख्य उत्पादों और सेवाओं की मांग अपेक्षाकृत सुसंगत रहती है।

ग्रोथ स्टॉक (Growth Stocks)

ग्रोथ स्टॉक तेजी से बढ़ने की उम्मीद वाली इक्विटी को संदर्भित करते है। ग्रोथ स्टॉक उन कंपनियों के स्टॉक हैं जिनके बाजार के औसत से अधिक दर से बढ़ने की उम्मीद है। इनमें निवेश करने से आपको अच्छा रिटर्न मिल सकता है लेकिन इनमें निवेश करने के साथ-साथ जोखिम की मात्रा भी अधिक होती है। जब अन्य निवेश विकल्पों में ब्याज दरें कम होती हैं, तो ग्रोथ स्टॉक बेहतर प्रदर्शन करते हैं।

इनकम स्टॉक (Income Stocks)

आय स्टॉक आपके निवेश सुरक्षा का एक बेहतरीन उपाय है जो निवेशकों को नियमित लाभांश प्रदान करते है। ऐसे स्टॉक ज्यादातर स्थिर नकदी प्रवाह और अच्छी तरह से स्थापित वित्तीय बुनियादी ढांचे वाली कंपनियों द्वारा जारी किए जाते हैं। ये स्टॉक बाजार के औसत से अधिक लाभांश के माध्यम से कंपनी के मुनाफे या अतिरिक्त नकदी को वितरित करके नियमित आय प्रदान करते हैं।

वैल्यू स्टॉक (Value Stocks)

वैल्यू स्टॉक उन कंपनियों के शेयर होते हैं जो कम कीमत पर कारोबार कर रही हैं और इन्हें शेयर बाजार में अंडरवैल्यूड माना जाता है। वैल्यू स्टॉक डिस्काउंट पर ट्रेडिंग करते हैं जो अन्यथा किसी कंपनी के प्रदर्शन से संकेतित हो सकते है। आर्थिक सुधार की अवधि के दौरान मूल्य स्टॉक बेहतर प्रदर्शन करते हैं।

रक्षात्मक स्टॉक (Defensive Stocks)

रक्षात्मक स्टॉक प्रतिकूल आर्थिक परिस्थितियों और प्रतिकूल शेयर बाजार के माहौल में भी लगातार रिटर्न प्रदान करते हैं। ये स्टॉक बिकवाली या डाउन मार्केट के दौरान पोर्टफोलियो को भारी नुकसान से बचाने में मदद करते हैं। ये रूढ़िवादी और कम जोखिम वाले निवेशकों के लिए सबसे उपयुक्त माने जाते हैं।