भारत के प्रमुख स्मॉल फाइनेंस बैंक व इनके रूल्स एंड रेगुलेशन

भारतीय अर्थव्यवस्था में बैंकिंग प्रणाली को और ज्यादा मजबूत करने एवं सभी तक बैंकिंग सुविधा पहुंचाने के लिए भारत के प्रमुख परंपरागत बैंकों के अलावा भारत सरकार में स्मॉल फाइनेंस बैंक को बैंकिंग प्रणाली में शामिल किया। आज स्मॉल फाइनेंस बैंक भारत के प्रमुख बैंक्स की तरह लगभग सभी प्रकार के वित्तीय ट्रांजैक्शन कर सकते हैं और भारतीय नागरिक अपनी सुविधा के अनुसार इन बैंकों की विभिन्न सुविधाओं का लाभ ले सकते है।

स्मॉल फाइनेंस बैंक का परिचय

लघु वित्त बैंक यानी Small Finance Bank भारत सरकार के मार्गदर्शन में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा बनाई गई बैंकिंग सिस्टम का एक विशिष्ट खंड है जो भारत के बैंकिंग प्रणाली में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है और भारतीय अर्थव्यवस्था का एक मजबूत पिल्लर माना जाता है।

जिसका मुख्य उद्देश्य छोटी व्यावसायिक इकाइयों, छोटे और सीमांत किसानों, सूक्ष्म और लघु उद्योगों और अन्य असंगठित क्षेत्र के लिए बुनियादी बैंकिंग गतिविधियों को शुरू करके वित्तीय समावेशन को आगे बढ़ाना और सभी तक बैंकिंग सुविधा को पहुंचाना है।

स्मॉल फाइनेंस बैंक सीमित तरीके से जमा और ऋण की स्वीकृति जैसी बुनियादी बैंकिंग सेवाएं प्रदान कर सकते हैं। भारतीय नागरिक यहां अपना खाता खोलकर बैंकिंग लेनदेन कर सकते हैं और लोन ले सकते हैं। ये बैंक भारत में ग्रीन बैंकिंग को प्रोत्साहित करने का भी प्रयास कर रहे हैं।

अन्य वाणिज्यिक बैंकों की तरह, ये बैंक उधार देने और जमा लेने सहित सभी बुनियादी बैंकिंग गतिविधियाँ कर सकते हैं। लेकिन, ये परंपरागत और बड़े बैंकों की तरह आरबीआई द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार सीमित मात्रा तक वित्तीय लेनदेन और बैंकिंग गतिविधियां कर सकते हैं।

वर्ष 2014-15 के केंद्रीय बजट में घोषणा के बाद, आरबीआई ने नवंबर 2014 में स्मॉल फाइनेंस बैंक के दिशा-निर्देश जारी किए। जिनका उन्हें पालन करना होता है और इन्हीं दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए ये बैंक सीमित बैंकिंग सुविधाएं अपने ग्राहकों को उपलब्ध कराते हैं।

रिजर्व बैंक को 72 छोटे वित्त बैंकों (small finance banks) के लिए आवेदन प्राप्त हुए, जिनमें से आरबीआई ने केवल 10 आवेदनों को 24 नवंबर 2014 को मंजूरी दी।

स्मॉल फाइनेंस बैंक को कंपनी अधिनियम, 2013 के तहत एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी के रूप में पंजीकृत किया जाता है जो स्टॉक मार्केट में लिस्टेड हो सकती है और अपनी कैपिटल वृद्धि के लिए लोगों से फंडिंग प्राप्त कर सकती है।

ये बैंक अपने ग्राहकों को संपत्ति और देयता (asset and liability) की एक पूरी श्रृंखला प्रदान करते है जैसे – बचत खाता, चालू खाता, सावधि जमा, आवर्ती जमा, लॉकर सुविधा, एटीएम और सभी प्रकार के ऋण उत्पाद जैसे Vehicle Loan, MSME Loan and SME loan आदि।

लघु वित्त बैंक (Small Finance Bank) और भुगतान बैंक (Payment Bank) के बीच मुख्य अंतर यह है कि लघु वित्त बैंक छोटे ऋण दे सकते हैं जबकि भुगतान बैंक कोई ऋण नहीं दे सकते हैं।

स्मॉल फाइनेंस बैंक रूल्स & रेगुलेशन व पात्रता मापदंड

निवासी व्यक्ति/पेशेवर, अकेले या संयुक्त रूप से, प्रत्येक को वरिष्ठ स्तर पर बैंकिंग और वित्त में कम से कम 10 वर्षों का अनुभव और निजी क्षेत्र में कंपनियों और सोसायटी, जो भारतीय निवासियों के स्वामित्व और नियंत्रण में हैं और उनको व्यवसाय चलाने का कम से कम पांच साल का अनुभव है, लघु वित्त बैंक स्थापित करने के लिए प्रमोटर के रूप में पात्र होंगे।

निजी क्षेत्र में मौजूदा गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियां (NBFCs), सूक्ष्म वित्त संस्थान (MFIs) और स्थानीय क्षेत्र बैंक (LABs), जो भारतीय निवासियों द्वारा नियंत्रित हैं और कम से कम पांच साल का व्यवसाय चलाने का अनुभव रखते है वे भी छोटे वित्त बैंकों में अपने संस्थान को बदल सकते है।

स्मॉल फाइनेंस बैंक को शुरू करने के लिए न्यूनतम चुकता इक्विटी पूंजी (paid-up equity capital) रु. 100 करोड़ होनी चाहिए। हालांकि, उन्हें 5 साल के भीतर अपनी न्यूनतम नेटवर्थ बढ़ाकर 200 करोड़ रुपये करनी होगी।

लघु वित्त बैंकों को बैंकिंग आउटलेट खोलने की अनुमति इस शर्त के अधीन दी जाएगी कि कम से कम 25 प्रतिशत बैंकिंग आउटलेट अपने परिचालन शुरू होने की तारीख से 10,000 की आबादी वाले बिना बैंक वाले ग्रामीण क्षेत्रों में खोले जाएंगे।

स्मॉल फाइनेंस बैंक में विदेशी हिस्सेदारी समय-समय पर विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (FDI) नीति के अनुसार संशोधित होती रहती है। कोई भी बाहरी व्यक्ति आरबीआई के गाइडलाइन और एफडीआई के रूल्स एंड रेगुलेशन के आधार पर फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट कर सकता है।

भारत के प्रमुख स्मॉल फाइनेंस बैंक

एयू स्मॉल फाइनेंस बैंकAU Small Finance Bank
फिनकेयर स्मॉल फाइनेंस बैंकFincare Small Finance Bank
कैपिटल स्मॉल फाइनेंस बैंकCapital Small Finance Bank
उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंकUjjivan Small Finance Bank
इक्विटास स्मॉल फाइनेंस बैंकEquitas Small Finance Bank
सूर्योदय स्मॉल फाइनेंस बैंकSuryoday Small Finance Bank
उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंकUtkarsh Small Finance Bank
ESAF स्मॉल फाइनेंस बैंकESAF Small Finance Bank
उत्तर पूर्व स्मॉल फाइनेंस बैंकNorth East Small Finance Bank
जन स्मॉल फाइनेंस बैंकJana Small Finance Bank

निस्संदेह, लघु वित्त बैंकों के बैंकिंग प्रणाली में प्रवेश के बाद, बैंकिंग सुविधाएं भारत के दूर-दराज के इलाकों तक पहुंची हैं और लाखों-करोड़ों भारतीयों को इसका लाभ मिला है। आज ये बैंक हजारों-लाखों लोगों को रोजगार भी प्रदान कर रहे हैं, जो भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए एक अच्छी पहल मानी जा रही है।

एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक अपनी मार्केटिंग रणनीति, सर्वोत्तम सुविधाओं और मार्केट कैप के मामले में भारत में छोटे वित्त बैंकों में नंबर 1 बैंक है जो अपने ग्राहकों को त्वरित और उत्कृष्ट सुविधाएं प्रदान करने के लिए जाना जाता है। विकसित और विकासशील देशों की अर्थव्यवस्था में लघु वित्त बैंक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

आप इन बैंकों से इंस्टेंट लोन ले सकते हैं, किसी को पेमेंट कर सकते हैं, पेमेंट जमा कर सकते हैं, लॉकर सुविधा का उपयोग कर सकते हैं, ऑनलाइन ट्रांजैक्शन कर सकते हैं, पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं, क्रेडिट-डेबिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं।

विशेष रूप से, ये बैंक किसी भी संपत्ति के बदले तत्काल ऋण देने के लिए जाने जाते हैं, इसलिए आप अपनी किसी भी मौजूदा अचल संपत्ति या सोने की संपत्ति के बदले बहुत कम ब्याज दर पर तत्काल ऋण प्राप्त कर सकते हैं।