मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें?

यदि आप मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें सवाल का जवाब पाने के लिए आज हमारे ब्लॉग पर आए तो इस लेख को पढ़ने के बाद आपके हाथ निराशा बिलकुल भी नही लगेगी क्योंकि आज के इस सम्पूर्ण लेख में हम अपने सभी पाठकों को Mobile Phone Repairing Business Plan in Hindi के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने जा रहे है ताकि जो लोग मोबाइल फोन रिपेयरिंग का बिजनेस शुरू करना चाहते है वह आसानी से इस बिजनेस से जुड़ी जरूरी जानकारियों को समझ सके।

Table of Contents

मोबाइल रिपेयरिंग बिज़नेस क्या है (Mobile Repairing Business kya hai)

वर्तमान समय में दुनिया में ऐसा कोई भी बिजली या बैटरी से चलने वाला उपकरण नही है जिसमे कोई खराबी न आए या जो खराब नही होता है। ठीक इसी तरह से मोबाइल फोन या स्मार्टफोन भी एक ऐसा ही बैटरी से चलने वाला उपकरण है जिसमे एक समय के बाद खराबी आना शुरू हो जाती है। मोबाइल कई सारे छोटे छोटे पुर्जों से जोड़कर बनाया जाता है इसलिए गिरने से, पानी में भीगने से, अधिक चार्ज करने से उसमे खराबी आने लगती है। 

अतः ऐसे में जब किसी भी मोबाइल फोन उपयोगकर्ता का फोन खराब हो जाता है या उसमे कमी आने लगती है तो उसे ठीक करने या उस कमी को दूर करने के लिए किसी ऐसी दुकान की आवश्यकता पड़ती है जो इस समस्या का समाधान कर सके यानी की मोबाइल की मरम्मत कर सके। अतः इन मोबाइल फोन को ठीक करने के लिए जो व्यक्ति मोबाइल फोन ठीक करने का काम करता है तो इसे Mobile Repairing Business कहा जाता है।

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें?

हमने यहां नीचे आपको Step By Step मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें के बारे में सारी चीजें आसान भाषा में समझाया है। आइए फिर Mobile Phone Repairing Business Plan बारे में विस्तार से बात करते है।

1 Mobile Repairing Course करें

यदि आप वाकई में मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस शुरू करना चाहते तो आपके पास मोबाइल रिपेयरिंग का डिप्लोमा होना चाहिए जो इस बात का सबूत होगा की आपको मोबाइल रिपेयरिंग की जानकारी है। इसलिए आप 6 महीने का मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स का डिप्लोमा कर सकते है। इसके बाद आगे आप अपनी बाकी प्रक्रिया को शुरू कर सकते है।

2. सही Place का चयन करें

यदि आप अपने बिजनेस को गंभीर रूप से शुरू करना चाहते है तथा अपने बिजनेस को ऊंचे स्तर पर पहुंचना चाहते है तो इसके लिए आपको अपने व्यवसाय को शुरू करने के लिए किसी अच्छी सी जगह का चुनाव करना होगा। वर्तमान समय में वैसे भी हर किसी के पास मोबाइल मौजूद होता है और यदि मोबाइल में कोई कमी आए तो उपयोगकर्ता गूगल में ही दुकान के बारे में जानकारी हासिल कर लेता है।

इसलिए यह जरूरी है की आप अपने मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस को शुरू करने के लिए किसी ऐसी जगह को चुने जहां से आपकी मोबाइल रिपेयरिंग की दुकान ग्राहकों की पहुंच से नजदीक हो। साथ ही आपकी दुकान भीड़ वाले इलाके या फिर मुख्य बाजार के केंद्र में हो ताकि आपकी दुकान पर दिनभर ग्राहकों की नजर रहें। इससे ग्राहकों को आपकी दुकान में आने में आसानी होगी।

3. कुशल Technician रखें

सिर्फ मोबाइल रिपेयरिंग की दुकान खोलने से आपका बिजनेस नही चलने वाला हैं। इसके लिए आपको ग्राहकों के मोबाइल फोन को ठीक करना आना चाहिए। यदि आपको स्वयं मोबाइल रिपेयर करना आता है तो आप चाहे तो खुद ही ग्राहकों के मोबाइल ठीक करने का कार्य कर सकते है। लेकिन अगर आपको इस बारे में जानकारी नही है तो आपको अपनी दुकान में कुशल टेक्नीशियन को रखना होगा जो कुशल तरीके से ग्राहकों के मोबाइल फोन को ठीक कर सके।

4. सभी Spare Parts रखें

ऊपर बताई गई दोनों चीजों को पूरा करने के बाद अब आपको अपने दुकान में मोबाइल ठीक करने के लिए सभी आवश्यक स्पेयर पार्ट्स को रखना होगा क्योंकि इनके बिना मोबाइल फोन को ठीक नही किया जा सकता है। इसलिए आपकी दुकान में सभी स्पेयर पार्ट्स जरुर होने चाहिए ताकि जल्दी जल्दी आप ग्राहकों के मोबाइल फोन को ठीक कर सके। इससे ग्राहक भी आपकी दुकान में दोबारा जरूर आना चाहेगा।

5. Quick Service की सुविधा दें

जैसा की आपको पता होगा की आज की दुनिया में लोग जल्दी में रहते है। भागदौड़ भरी इस दुनिया में लोग अधिकतर समय तक अपने मोबाइल फोन से दूर नही रहना चाहता है इसलिए यदि कोई ग्राहक आपके पास मोबाइल फोन ठीक करवाने आता है तो आप जितना जल्दी ग्राहक को उसका फोन ठीक करके देगे तो ग्राहक भी आपकी सर्विस से खुश होगा जिसके चलते वह आपकी मोबाइल रिपेयरिंग शॉप पर फिर से जरूर आयेगा। आपको इस बात का खास ख्याल रखना होगा की ग्राहक आपकी सर्विस से संतुष्ट है या नही।

6. Business की Marketing करें

आपके दुकान की सर्विस चाहे जितनी भी अच्छी क्यों न हो लेकिन इस सर्विस का कोई भी फायदा नहीं है जब तक आपके पास ग्राहक ही नही होंगे। ग्राहक बिजनेस की जान होते है इसलिए यह जरूरी है की आपके बिजनेस के पास ग्राहकों का होना जरूरी है। अतः ग्राहक भी तभी आयेंगे जब आपके बिजनेस के बारे में लोगों को पता होगा। 

यदि आपकी दुकान किसी भीड़ भाड़ वाले इलाके में होगा तो आपके पास ग्राहक जरूर आयेंगे लेकिन यदि दुकान कही एकांत में है तो आपको अपने बिजनेस की मार्केटिंग करनी होगी। अपने व्यवसाय को लोगों की नजरों के सामने लाने के लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन तरीके से अपने व्यवसाय को प्रमोट करना होगा। इंस्टाग्राम पेज, फेसबुक पेज और अन्य सोशल मीडिया का सहारा आप बिजनेस को प्रमोट करने के ले सकते हैं।

7. ग्राहकों से Feedback जरूर लें

जब भी कोई ग्राहक आपकी मोबाइल रिपेयरिंग दुकान की सेवाओं को ग्रहण करें तो आखिर में आपको ग्राहकों से आपकी दुकान और सेवाओं के संबंध में फीडबैक जरूर लेना है की क्या वह ग्राहक आपकी सेवाओ से संतुष्ट है या नहीं? इससे आपको पता चल सकेगा की आपकी सेवाओ से ग्राहक खुश है या नही तथा आपके बिजनेस में कौन सी खामियां है जिनको आपको आगे चलकर दूर करना होगा। इसलिए ग्राहकों से फीडबैक जरूर लें।

ऊपर बताए गए सारे Steps जिनको फॉलो करने के बाद आप बड़ी आसानी के साथ Mobile Repairing Business शुरू कर सकते है। उम्मीद करते है की आपको सारी चीजें अच्छे से समझ में आ चुकी होंगी।

मोबाइल फोन रिपेयरिंग बिजनेस के लिए लाइसेंस बनवाए और पंजीकरण करवाए

वैसे तो मोबाइल फोन रिपेयरिंग शॉप खोलने के लिए किसी भी तरह के लाइसेंस बनवाने या पंजीकरण करवाने की आवश्यकता हो नही होती है लेकिन टर्नओवर जीएसटी में छूट समय सीमा से अधिक हो तो यह जरूरी बन जाता है की बिजनेस का रजिस्ट्रेशन हो और जीएसटी नंबर भी लिया जाए। साथ ही इस बात का भी ध्यान दें की अलग अलग राज्य और जिला में कानून के अलग अलग नियम लागू होते है। 

इसलिए ध्यानपूर्वक नियमों के तहत बिजनेस को कानूनी रूप प्रदान करें। हमने मोबाइल फोन रिपेयरिंग बिजनेस से जुड़ी कानूनी प्रक्रिया को नीचे समझाया है जिनको आपको फॉलो करना है फिर जाके आप बिजनेस शुरू कर सकते है।

A. दुकान का Registration

सबसे पहले आपको Shop and Establishment Act के अंतर्गत स्टेट गवर्नमेंट के लेबर डिपार्टमेंट में आपको अपनी दुकान का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आपको निम्नलिखित चीजों की जरूरत पड़ेगी।

  • बिजनेस का नाम
  • बिजनेस का पता 
  • बिजनेस का प्रकार
  • बिजनेस में कर्मचारी है तो उनके बारे में जानकारी 
  • आपका पहचान पत्र, इसके लिए आप पैन कार्ड/आधार कार्ड/वोटर आईडी कार्ड या फिर ड्राइविंग लाइसेंस भी दे सकते है
  • मालिक का फोटो 
  • अगर आपने किराए पर दुकान ली है तो उसका एग्रीमेंट भी लगेगा
  • बिजली का बिल  

B. व्यवसाय का Tax Registration

दुकान का रजिस्ट्रेशन होने के बाद टैक्स रजिस्ट्रेशन यानी की GST रजिस्ट्रेशन के लिए आपको https://services.gst.gov.in पर विजिट करना होगा। यदि आप यह कार्य स्वयं न कर पाए तो आप किसी साइबर कैफे में जाके यह कार्य करवा सकते है। इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आपको निम्नलिखित दस्तवावेजों की आवश्यकता पड़ेगी।

  • आपका पैन कार्ड
  • आपके बिजनेस रजिस्ट्रेशन का सबूत
  • जहां पर आपने अपना बिजनेस शुरू किया है वहां का एड्रेस प्रूफ
  • आपके बैंक अकाउंट की स्टेटमेंट
  • आपके डिजिटल सिग्नेचर   

इस तरह ऊपर बताई गई दोनों कानूनी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद आप अपने बिजनेस को कानूनी रूप से आसनी से शुरू कर सकते है।

Mobile Phone Repairing Business Plan in Hindi के बारे में जानने के लिए यदि आप इस लेख में आए होंगे तो जरूर आखिर तक इस लेख को पढ़ने के बाद आपको अच्छे से अब समझ में आ चुका होगा कि मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू किया जाता है? इस लेख में हमने आपको विस्तार से सारी चीजों को सरल शब्दों में समझाने की कोशिश की हैं। अतः उम्मीद करते है की आपको यह लेख जरूर पसंद आया होगा। यदि लेख पसंद आए तो इसे Share जरूर कीजिएगा। लेख से जुड़ा कोई भी सवाल आपके मन में है तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे जरूर पूछ सकते है।

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस महत्वपूर्ण प्रश्न (Mobile Repairing Business FAQ)

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस में कितना प्रॉफिट मार्जिन होता है?

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस में प्रॉफिट मार्जिन आपके एरिया टू एरिया निर्भर करता है। अगर आपका बिजनेस बड़े शहर और अच्छे लोकेशन पर स्थापित है तो आप 40% से 110% तक प्रॉफिट जनरेट कर सकते हैं और यदि आपका बिजनेस छोटे शहर या गांव में स्थापित है तो आप 20% से 80% तक प्रॉफिट जनरेट कर सकते हैं।

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस के लिए क्या करना चाहिए?

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस के लिए आपको मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करना चाहिए और आवश्यक मोबाइल रिपेयरिंग इक्विपमेंट्स खरीद करके एक अच्छे लोकेशन पर अपना स्टोर शुरू करना चाहिए।

मोबाइल रिपेयरिंग शॉप के लिए कौन सा कोर्स बेस्ट है?

मोबाइल रिपेयरिंग स्टोर के लिए मोबाइल टेक्निशियन कोर्स सबसे अच्छा माना जाता है, जिसकी अवधि 3 से 6 महीने की होती है। आप इसके बेसिक और एडवांस लेवल को सीखकर अच्छी आमदनी कर सकते हैं।

मोबाइल रिपेयरिंग स्टोर शुरू करने के लिए कितना निवेश चाहिए?

मोबाइल रिपेयरिंग स्टोर शुरू करने के लिए कम से कम ₹20000 आपके पास होने चाहिए। इसके अतिरिक्त, आप अपने लोकेशन, एरिया और प्लानिंग के अनुसार अपना बजट बढ़ा सकते हैं और अपना मोबाइल रिपेयरिंग शॉप बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस में कमाई कितनी होती है?

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस की कमाई आपके एरिया पर निर्भर करती है। यह कमाई ₹20000 से लेकर के 5 लाख रुपये से ज्यादा भी हो सकती है। अगर आपका स्टोर अच्छे स्थान पर होता है तो आप लगभग कम से कम 40 से 50 हजार रुपये कमा सकते हैं और अगर आपका बिजनेस गांव में स्थित है तो आप कम से कम ₹20000 आसानी से कमा सकते हैं।

मोबाइल रिपेयरिंग स्टोर का किराया कितना होता है?

मोबाइल रिपेयरिंग स्टोर का किराया –

  • गांव में ₹ 15,00-5,000 हो सकता है।
  • छोटे शहर में ₹ 3,000-20,000 हो सकता है।
  • बड़े शहर में ₹ 4,000-40,000 तक हो सकता है।

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स में कितना पैसा लगता है?

भारत में मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करने के लिए अलग-अलग संस्थानों के अनुसार अलग-अलग फीस है, यह फीस ₹8000 से ₹50000 तक हो सकती है, जो कि मोबाइल रिपेयरिंग एडवांस या बेसिक कोर्स के आधार पर तय की जाती है।

मोबाइल टेक्नीशियन के लिए कौन सा कोर्स बेस्ट है?

मोबाइल तकनीशियन के लिए आप डिप्लोमा इन मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स कर सकते हैं या आप मोबाइल रिपेयरिंग में यूजी और पीजी कर सकते हैं लेकिन हमारी सलाह के अनुसार आप 3-6 महीने का मोबाइल रिपेयरिंग सर्टिफिकेट कोर्स करके अपना काम शुरू कर सकते हैं।

भारत में मोबाइल रिपेयरिंग का स्कोप क्या है?

भारत में मोबाइल रिपेयरिंग का स्कोर बहुत वाइड है आप एक फ्रीलांसर के रूप में काम कर सकते हैं या अपने आसपास मोबाइल रिपेयरिंग स्टोर खोल सकते हैं या मोबाइल रिपेयरिंग कंपनियों के शोरूम में काम कर सकते हैं या आप मोबाइल रिपेयरिंग होम डिलीवरी सर्विस ऑफर कर सकते हैं, इसके अलावा भी बहुत सारे विकल्प है जिन्हें आप आजमा सकते हैं।