हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक

कोरोना के समय में स्वास्थ्य बीमा में जबरदस्त उछाल को देखते हुए इस क्षेत्र ने जबरदस्त गति पकड़ी है, लेकिन अगर आप स्वास्थ्य बीमा लेने की सोच रहे हैं, तो कुछ प्रमुख कारक हेल्थ इंश्योरेंस के प्रीमियम को प्रभावित कर सकते हैं जिनके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए।

हाल के वर्षों में, चिकित्सा उपचार की बढ़ती लागत के कारण, स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदने वाले लोगों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है और भारत में कई हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां भी अपने बेहतर प्रयासों से आपकी मदद कर रही हैं।

लोग अपनी परंपरागत नितियों से हटकर अपने परिवार के लिए जीवन बीमा और स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीद रहे हैं ताकि उन्हें अपनी हेल्थ इमरजेंसी में वित्तीय जोखिम का सामना नहीं करना पड़े।

स्वास्थ्य बीमा न केवल आपके कठिन समय के दौरान आपको कवर प्रदान करता है बल्कि आपको कर लाभ (Tax Benefit) भी प्रदान करता है।

आपके हेल्थ बीमा आवेदन को स्वीकार करते समय बीमा कंपनियां आमतौर पर आपके स्वास्थ्य प्रोफाइल का गहन अध्ययन करती है और उनकी समीक्षा के आधार पर, प्रीमियम शुल्क तय होता हैं।

हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक

आमतौर पर लोग प्रीमियम की गणना में शामिल प्रक्रिया के बारे में बहुत कम जानते हैं जिससे उन्हें अपने पॉलिसी प्रदाता को कुछ ज्यादा भुगतान करना पड़ता है।

आप के लिए यह जानना हमेशा बेहतर होगा कि कौनसे फैक्टर्स है जिसके आधार पर प्रीमियम तय किया जाता है और प्रभावित होता है। आप पूरी प्रक्रिया के तहत बीमा का दावा भी कर सकते हैं।

व्यक्तिगत मेडिकल हिस्ट्री

हेल्थ इंश्योरेंस कवर मेडिकल हिस्ट्री के आधार पर दिया जाता है इसीलिए आपकी खराब मेडिकल हिस्ट्री आपके प्रीमियम को प्रभावित कर सकती है।

अगर ज्यादा मेडिकल हिस्ट्री खराब है तो पॉलिसी प्रोवाइडर के द्वारा पॉलिसी के लिए मना भी किया जा सकता है।

हाई बॉडी मास इंडेक्स (BMI)

एक उच्च बॉडी मास इंडेक्स व्यक्ति को ज्यादा बीमारियों से ग्रसित होने की ओर संकेत करता है जिससे हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम एक स्वस्थ व्यक्ति के मुकाबले ज्यादा होता है।

उच्च बीएमआई वाले लोगों में मोटापा अधिक होता है, जिससे उन्हें विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं की संभावना अधिक होती है।

खराब जीवनशैली

जीवन बीमा प्रीमियम तय करने में आपकी जीवनशैली (Lifestyle) भी बड़ी भूमिका निभाती है।

यदि आपकी जीवनशैली खराब है और आप कमजोर और अस्वस्थ दिखते हैं, तो यह कारक आपके प्रीमियम को प्रभावित कर सकता है, इसलिए स्वस्थ जीवन शैली पर ध्यान दें।

आयु वर्ग (Age Bracket)

अगर आपकी उम्र कम है तो आपके लिए प्रीमियम की राशि कम होती है और जैसे आपकी उम्र ज्यादा होती है उसके अनुसार आपके जीवन बीमा प्रीमियम की राशि ज्यादा होती है।

इसीलिए, हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम अमाउंट डिसाइड करने में आयु वर्ग का महत्वपूर्ण रोल होता है।

आपकी कमाई

स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम तय करने में आपकी कमाई भी बड़ी भूमिका निभाती है।

यदि आपकी वहन क्षमता कम है तो आपको उसी के अनुसार बीमा प्रीमियम पॉलिसी मिलेगी और यदि आपकी खरीद क्षमता अधिक है तो आपको उच्च प्रीमियम पॉलिसी मिलेगी।

आपके स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारकों में ये मुख्य रूप से 5 कारक शामिल हैं, इसलिए स्वास्थ्य बीमा लेने और प्रीमियम राशि तय करने से पहले आपको इन कारकों को ध्यान में रखना चाहिए।

आप अपनी सुविधा के अनुसार बेस्ट हेल्थ इंश्योरेंस प्लान को चुन सकते हैं और अच्छी तरह से कैलकुलेशन करने के बाद प्रीमियम राशि को अपनी भुगतान कैपेसिटी के अनुसार तय कर सकते हैं।

आप इनके बारे में भी जान सकते है –

फिक्स्ड डिपॉजिट डबल स्कीम क्या है?

आप सही ULIP कैसे चुन सकते हैं?

ध्यान रखें किसी के कहने पर ज्यादा प्रीमियम राशि का विकल्प नहीं चुने क्योंकि बाद में इस राशि का भुगतान करने में दिक्कत हो सकती है।

हम उम्मीद करते हैं कि आप अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होगे और एक बेस्ट हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी उचित प्रिमियम के साथ खरीदेंगे।