भारत-अमेरिका व्यापार: दोनों देशों ने 2021-22 में 100 अरब डॉलर का आंकड़ा पार किया

भारत-अमेरिका व्यापार (India-US Trade) : भारतीय तकनीकी उद्योग ने 1.6 मिलियन नौकरियों का योगदान देकर अमेरिकी अर्थव्यवस्था में लगभग 198 बिलियन डॉलर का योगदान दिया।

भारत-अमेरिका व्यापार समझौते के तहत, दोनों देशों ने 2021 में 100 अरब डॉलर के व्यापार का आंकड़ा पार किया, जिससे यह भारत-अमेरिका आर्थिक इतिहास में माल व्यापार (goods trade) की सबसे बड़ी मात्रा बन गया।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को नई दिल्ली में इंडिया-यूएस बिजनेस एंड इकोनॉमिक अपॉर्चुनिटीज इवेंट में कहा कि कैसे भारतीय तकनीकी उद्योग ने अमेरिकी अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

दोनों अर्थव्यवस्थाएं ने मिलकर भारत में चल रहे वैश्विक आर्थिक संकट से निपटने के लिए भारत-अमेरिकी व्यापार और आर्थिक अवसर कार्यक्रम में एक साथ आकर कई पहल की हैं।

इंडिया यूएस बिजनेस एंड इकोनॉमिक अपॉर्चुनिटीज इवेंट में सत्र को संबोधित करते हुए, उन्होंने कहा, “भारतीय तकनीकी उद्योग ने सीधे और अमेरिकी ग्राहक आधार का समर्थन करके, लगभग 1.6 मिलियन नौकरियों का समर्थन किया है और अमेरिकी अर्थव्यवस्था में लगभग 198 बिलियन डॉलर का योगदान दिया है।”

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस बात पर जोर दिया कि अमेरिका-भारत द्विपक्षीय संबंधों ने दोनों देशों के व्यापार में बहुत बड़ा योगदान दिया है।

इसके साथ ही पिछले एक दशक में दोनों देशों के बीच व्यापार संबंधों में जबरदस्त वृद्धि हुई है। रक्षा व्यापार या माल व्यापार के मामले में, दोनों देशों ने द्विपक्षीय संबंधों के माध्यम से घातीय वृद्धि देखी है।

सीतारमण ने कहा, “हमारे गहरे होते आर्थिक और वाणिज्यिक संबंधों का एक प्रमाण यह है कि दोनों देशों के बीच माल में द्विपक्षीय व्यापार 2021 में 100 अरब डॉलर का आंकड़ा पार कर गया, जिससे यह भारत-अमेरिका आर्थिक इतिहास में माल व्यापार की सबसे बड़ी मात्रा बन गया।”

वित्त मंत्री ने भारत में विदेशी पूंजी प्रवाह में अमेरिका के योगदान को भी स्वीकार किया।

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने हाल ही में डेटा जारी किया है, जिससे पता चलता है कि 2021-22 में अमेरिका ने चीन को झटका देकर भारत को शीर्ष व्यापारिक भागीदार बना दिया है।

अमेरिका और भारत के बीच द्विपक्षीय व्यापार 2020-21 में 80.51 बिलियन अमरीकी डॉलर के मुकाबले 119.42 बिलियन अमरीकी डालर (2021-2022) तक पहुँच गया।

अमेरिका को निर्यात भी पिछले वित्त वर्ष में 51.62 बिलियन अमरीकी डालर से बढ़कर 2021-22 में 76.11 बिलियन अमरीकी डालर हो गया, जबकि आयात 2020-21 में लगभग 29 बिलियन अमरीकी डालर की तुलना में बढ़कर 43.31 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया।