बीमा का दावा कैसे करें – पूरी प्रक्रिया

हम सभी ने कोई न कोई बीमा पॉलिसी ले रखी है, जरूरत पड़ने पर हमें यह पता होना चाहिए कि बिना पॉलिसी का क्लेम कैसे करें या बीमा का दावा कैसे करें?, बीमा पॉलिसी क्लेम की प्रक्रिया आसान है, बस आपको कुछ मुख्य बेसिक स्टेप्स ध्यान में रखने की आवश्यकता है।

बीमा का दावा कैसे करें – पूरी प्रक्रिया

एक बीमा दावा एक आधिकारिक और कानूनी अनुरोध है जो एक पॉलिसीधारक एक बीमा कंपनी को उनके द्वारा हुए नुकसान के मुआवजे के लिए करता है। बीमा का दावा 2 तरीकों से किया जा सकता है – कैशलेस और प्रतिपूर्ति।

यदि पॉलिसीधारक पूरी कानूनी प्रक्रिया का पालन करने के बाद दावा करता है, तो बीमा कंपनी द्वारा पॉलिसीधारक को बीमा समझौते के तहत गारंटीकृत कवरेज के अनुसार मुआवजा प्रदान किया जाता है।

बीमा क्लेम करने के 6 आसान चरण

अपनी बीमा पॉलिसी का दावा करने और लाभ प्राप्त करने के लिए, दुर्घटना और क्षति की गंभीरता के बारे में तुरंत बीमा कंपनी और पुलिस को सूचित करें। यदि आपका दावा सही है और आपने पूरी कानूनी प्रक्रिया का पालन किया है, तो वे आपके नुकसान या अन्य पहलुओं का निरीक्षण करने के बाद आपको बिमा राशि की प्रतिपूर्ति करेंगे।

1 – बीमा कंपनी को तुरंत सूचित करें

अपनी बीमा कंपनी को तुरंत कॉल करके घटना की सूचना दें। बीमा कंपनी को 7 कार्य दिवसों के भीतर दुर्घटना की सूचना देनी होती है और आवश्यक दस्तावेज जमा करवाने होते है। ऐसा नहीं करने पर बिमा क्लेम स्वीकार करना या अस्वीकार करना बीमा कंपनी के विवेक पर निर्भर करता है।

2 – निकटतम पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज कराएं

बीमा क्लेम लेने के लिए अपने साथ किसी भी अप्रिय घटना की सूचना अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में दें। दुर्घटना, चोरी, आग या अन्य घटनाओं में दावा निपटान प्रक्रिया में यह एक आवश्यक कदम है। यदि दुर्घटना वाहन के कारण हुई है तो आपको मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण में मामला दर्ज करने की आवश्यकता है। यह तभी आवश्यक है जब दुर्घटना में कोई तीसरा पक्ष शामिल हो।

3 – प्रमाण के लिए घटना की फोटो खींचें

कोई भी बीमा दावा करने के लिए, आपको साक्ष्य के रूप में वहां हुई घटनाओं की तस्वीरें लेनी चाहिए ताकि आपके पास सत्यापन योग्य साक्ष्य हों और जरूरत पड़ने पर आप उन्हें बीमा कंपनी और अदालत में पेश कर सकें।

4 – बीमा कंपनी के पास सभी दस्तावेज जमा कराएं

बीमा क्लेम प्राप्त करने के लिए चौथा चरण हैं बीमा कंपनी के पास सभी आवश्यक दस्तावेज जमा कराना। जिसमें ड्राइविंग लाइसेंस, वाहन पंजीकरण प्रमाण पत्र, पुलिस प्राथमिकी और अन्य आवश्यक दस्तावेज शामिल है जो दुर्घटना के प्रकार पर निर्भर करते है।

5 – बीमा कंपनी से सर्वेयर भेजने को कहें

बीमा कंपनी के साथ दावा दायर करें और उनसे अनुरोध करें कि वे इसका निरीक्षण करने के लिए एक सर्वेक्षक भेजें। आप बीमा कंपनी की वेबसाइट या ऐप पर जाकर भी ऑनलाइन क्लेम कर सकते हैं। आमतौर पर बीमा दावे की सूचना के एक से पांच कार्य दिवसों के भीतर सर्वेक्षण किया जाता है।

6 – कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद पाएं बीमा क्लेम

बीमा कंपनी द्वारा कानूनी प्रक्रिया को पूरा करने और दावे का पूरा विश्लेषण करने के बाद, आपकी बीमा पॉलिसी के अनुसार क्लेम का निपटारा कर दिया जाएगा। यदि बीमा कंपनी को किसी प्रकार का संदेह होता है, तो वह अदालत जा सकती है और आपके बीमा क्लेम की प्रक्रिया में देरी हो सकती है।

बीमा पॉलिसी क्लेम करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • बीमा पॉलिसी की ओरिजिनल कॉपी
  • पुलिस एफआईआर रिपोर्ट की कॉपी
  • विधिवत भरा और हस्ताक्षरित बिमा क्लेम फॉर्म
  • पहचान के लिए आधार और पैन कार्ड की फोटो कॉपी
  • वाहन पंजीकरण प्रमाण पत्र की प्रति, यदि लागू हो
  • वैध ड्राइविंग लाइसेंस की प्रति, यदि लागू हो
  • शारीरिक चोट के मामले में, चिकित्सा रसीदों की मूल प्रति
  • किए गए किसी अन्य खर्च की मूल रसीद प्रति

बीमा का दावा करना बहुत ही आसान है लेकिन ज्यादातर भारतीय लोग जानकारी के अभाव में बिमा क्लेम करना जानते नहीं हैं और वे किसी एजेंट की सहायता लेते हैं। जिससे उन्हें आर्थिक रूप से भी नुकसान होता है और उचित क्लेम नहीं मिलने की संभावना भी बहुत ज्यादा रहती है इसीलिए कोशिश करे की कोई भी घटना घटित होने के बाद तुरंत बीमा क्लेम की प्रक्रिया को शुरू कर दें।

अगर कोई भी बिमा कंपनी किसी भी प्रकार की आनाकानी करती है या बीमा दावा के लिए मना करती है तो आपके पास कोर्ट जाने का विकल्प मौजूद है। आप कोर्ट की सहायता ले सकते हैं और उस कंपनी को बिमा निपटान करने के लिए बाध्य कर सकते हैं।