Franchise Model kya hai और फ्रेंचाइजी कैसे बने?

फ्रेंचाइजी बिजनेस मॉडल पैसे कमाने और बिजनेस का विस्तार करने के लिए बहुत ही शानदार माध्यम माना जाता है। आपको इसमें काम करने या निवेश करने से पहले फ्रेंचाइज बिजनेस मॉडल क्या होता है, Franchise Model kya hai, फ्रेंचाइजी कैसे बने, फ्रेंचाइज डिस्क्लोजर डॉक्यूमेंट क्या होता है, फ्रेंचाइज एग्रीमेंट क्या है और फ्रेंचाइजी बिजनेस मॉडल लाभ का सौदा है या नहीं इसके बारे में विस्तृत जानकारी होनी चाहिए।

फ्रेंचाइज बिजनेस मॉडल क्या होता है? (Franchise Model kya hai)

किसी कंपनी या बिजनेस का मालिक अपने बिजनेस का नाम, लोगो और बिजनेस मॉडल को एक एग्रीमेंट के द्वारा किसी तीसरे पक्ष को प्रयोग करने का अधिकार प्रदान करता है तो उसे फ्रेंचाइज मॉडल (Franchise Model) कहते है।

फ्रेंचाइज प्रदान करने वाला बिजनेस मालिक फ्रेंचाइजर (Franchisor) कहलाता है और जिस तीसरे पक्ष को बिजनेस के अधिकार प्रदान किये जाते है उसे फ्रेंचाइजी (Franchisee) कहा जाता है। फ्रेंचाइजी बिजनेस के कई प्रकार व फायदे भी होते हैं।

Franchise एक प्रकार का लाइसेंस एग्रीमेंट होता है जो Franchisee को बिजनेस ट्रेडमार्क, ब्रांड, मॉडल, प्रक्रिया आदि का प्रयोग करने की अनुमति प्रदान करता है, जिसके आधार पर फ्रेंचाइजी अपने क्षेत्र में उत्पाद व सेवा बेच सकता है। Franchisor इसके बदले में Franchisee से एक निश्चित फीस या कमीशन लेता है जो वार्षिक या कुल बिक्री के आधार पर हो सकती है।

जब कोई व्यवसाय एक बेस्ट बिजनेस आइडिया के आधार पर कम लागत पर अपनी बाजार हिस्सेदारी या भौगोलिक पहुंच बढ़ाना चाहता है, तो वह अपने उत्पाद और ब्रांड नाम से फ्रेंचाइज ऑफर करता है।

यह फ्रेंचाइजर और फ्रेंचाइजी के बीच एक संयुक्त उद्यम है जिनके बीच एक कानूनी सहमति बनती है कि मैं फ्रेंचाइजर इस व्यक्ति को मेरे बिजनेस मॉडल और ब्रांड नाम का उपयोग करने का अधिकार प्रादन करता हूं, वही फ्रेंचाइजी उन सभी नियमों का पालन करेंगा जो फ्रेंचाइजर द्वारा बनाए गए है।

उद्यमियों के लिए फ्रेंचाइज बिजनेस मॉडल एक लोकप्रिय तरीका माना जाता है। Franchise खरीदने का एक बड़ा फायदा यह है कि आपके पास एक स्थापित कंपनी का ब्रांड नाम प्रयोग करने का अधिकार होता है। आपको अपना नाम और उत्पाद ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए संसाधनों को खर्च करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

फ्रेंचाइज अनुबंध एक कानूनी प्रक्रिया होती है और यह अनुबंध प्रत्येक फ्रेंचाइजर के लिए अलग-अलग हो सकता है, यह पूर्ण रूप से फ्रेंचाइजर पर निर्भर करता है कि वह अपने बिजनेस के अधिकार किस तरह से किसी दूसरे व्यक्ति को प्रदान करता है।

आमतौर पर एक फ्रेंचाइज अनुबंध में फ्रेंचाइजर को भुगतान करने की तीन श्रेणियां होती है –

  • फ्रेंचाइजर एक अग्रिम फीस तय करेंगा और वह फीस फ्रेंचाइजी को जमा करवानी पड़ेगी। फ्रेंचाइजर बदले में बिजनेस के नियंत्रण अधिकार और ब्रांड नाम का प्रयोग करने के अधिकार फ्रेंचाइजी को प्रदान करेंगा।
  • फ्रेंचाइजर प्रशिक्षण, उपकरण या व्यावसायिक सलाहकार सेवाएं प्रदान करने के लिए भुगतान प्राप्त कर सकता है।
  • फ्रेंचाइजर को रॉयल्टी के रूप में या कुल बिक्री का एक निश्चित प्रतिशत जो एग्रीमेंट के समय तय होता है  प्राप्त करने का अधिकार रहेगा।

Franchise अनुबंध अस्थायी होता है, जो किसी व्यवसाय के पट्टे या किराये के अनुबंध के समान होता है। यह अनुबंध Franchisee को व्यवसाय के स्वामित्व का पूर्ण हक प्रदान नहीं करता है। फ्रेंचाइज समझौते आमतौर पर पांच से 30 साल के बीच होते है, अगर कोई Franchisee इसका उल्लंघन करता है तो समय से पहले Franchisor अनुबंध को समाप्त कर सकता है।

फ्रेंचाइजी कैसे बने? (Franchisee Kaise bane)

एक फ्रेंचाइजी बनने के लिए आपको फ्रेचाइज ऑफर करने वाली कंपनियों या बिजनेस से मिलना पड़ेगा। आपको एक एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर करने होगे और बिजनेस मालिक द्वारा तय की गई अग्रिम फीस का भुगतान करना पड़ेगा। इस समझौते के द्वारा आपको कुछ अधिकार प्रदान किये जाते है और कुछ नियमों का पालन आपको करना पड़ता है जैसे –

  • आप बिजनेस ब्रांड या नाम का प्रयोग कर सकते है।
  • आप बिजनेस के उत्पाद बेच सकते है या सर्विस प्रदान कर सकते है।
  • आप बिजनेस सॉफ्टवेयर का प्रयोग कर सकते है।
  • आपको कंपनी द्वारा बनाए गए बिजनेस सिस्टम का पालन करना होगा।
  • आपको कंपनी द्वारा बनाई गई मार्केटिंग व्यवस्था का पालन करना होगा।
  • आपको अन्य सभी अधिकार जो एक बिजनेस को चलाने के लिए आवश्यक होते है प्रदान किये जा सकते है।
  • एक विशेष भौगोलिक क्षेत्र जिसमें आपके अलावा अन्य किसी को भी उस बिजनेस से संबंधित Franchise प्रदान नहीं की जाएगी।  

एक फ्रेंचाइजी और फ्रेंचाइजर के बीच का संबंध बिजनेस पार्टनर की तरह होता है। फ्रेंचाइजर सामान्य व्यावसायिक रणनीतियों जैसे स्टाफ का प्रशिक्षण, दुकान स्थापित करने, अपने उत्पादों या सेवाओं के विज्ञापन, इसकी आपूर्ति की सोर्सिंग आदि से संबंधित निरंतर मार्गदर्शन और सहायता प्रदान करता है।

फ्रेंचाइज डिस्क्लोजर डॉक्यूमेंट क्या है?

किसी भी कंपनी की फ्रेंचाइज लेने के लिए यह सबसे जरुरी डॉक्यूमेंट होता है इसके अन्दर फ्रेंचाइज से सम्बंधित सभी जानकारियां होती है जैसे अग्रिम शुल्क कितना होगा, बिजनस कैसे चलाना है, लोकेशन कौनसी होनी चाहिए, कितना कमीशन दिया जायेगा आदि।

फ्रेंचाइज एग्रीमेंट क्या है?

फ्रेंचाइज अनुबंध एक कानूनी प्रक्रिया होती है जिसके अन्दर Franchise से संबंधित सभी नियम और कंडीशन होती है जैसे – अग्रिम शुल्क कितना होगा, फ्रेंचाइजर किन बातों का ध्यान रखेंगा, फ्रेंचाइजी के लिए क्या नियम होगे आदि। इस एग्रीमेंट में Franchise लेने वाले और देने वाले दोनों के हस्ताक्षर होते है।

Franchises लेना भी एक बहुत अच्छा बिजनेस मॉडल है। यह बिजनेस उन लोगों के लिए है जो बिल्कुल भी रिस्क नहीं लेना चाहते है क्योंकि यह एक ऐसा बिजनेस है जिसके अंदर सब कुछ कंपनी का होता है और Franchisee के सिर्फ पैसे और जगह होती है।

भारत के 10 बेस्ट फ्रेंचाइजी बिजनेस मॉडल के उदाहरण

भारत एशिया के प्रमुख वाणिज्यिक और आर्थिक हब केंद्रों में से एक है, इसलिए कई घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड यहां आते हैं जो भारत को आर्थिक रूप से अधिक मजबूत बनाने में योगदान दे रहे हैं, जिससे भारत में फ्रेंचाइजी व्यवसाय बहुत तेजी से बढ़ रहा है।

लगभग सभी भारत की टॉप कंपनियां फ्रेंचाइज ऑफर करती है। आज लोग जानना चाहते हैं कि भारत में सबसे अच्छे फ्रेंचाइजी बिजनेस मॉडल कौनसे है जो कम निवेश और समय में अच्छा रिटर्न दे सकते है।

No.Franchise Business ModelIndustry
1रिलायंस फ्रेशरिटेल
2सरस पार्लरडेयरी उत्पाद
3पतंजलि आयुर्वेदिकएफएमसीजी
4केएफसीरेस्टोरेंट
5डोमिनोजफास्ट फूड
6जॉकी इंडियाकपड़े
7बीकाजीस्नैक्स और नमकीन
8डॉ लाल पैथलैब्सहेल्थकेयर टेस्ट
9किडज़ी स्कूलशिक्षा
10तनिष्कज्वैलरी

ऊपर दिए गए सभी शीर्ष 10 सर्वश्रेष्ठ फ्रैंचाइज़ी बिजनेस ब्रांड बहुत प्रसिद्ध और अच्छी तरह से स्थापित भारतीय ब्रांड हैं। ये ब्रांड फ्रैंचाइज़ी को एक नए व्यवसाय के लिए आवश्यक सभी सुविधाएं प्रदान करते हैं। आप इनसे बहुत कम पैसों में फ्रेंचाइज खरीदकर अपना व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

क्या फ्रेंचाइजी बिजनेस मॉडल लाभ का सौदा है या नहीं?

निश्चित रूप से फ्रेंचाइजी बिजनेस मॉडल एक लाभ का सौदा है। यह बिजनेस करने वाले और इन्वेस्टर यानी फ्रेंचाइजी लेने वाले दोनों के लिए एक प्रॉफिटेबल डील मानी जाती है।

अगर बिजनेस के पॉइंट ऑफ व्यू से देखा जाए तो इसके माध्यम से बहुत ही कम समय में बहुत बड़े मार्केट को कैप्चर किया जा सकता है। अपने बिजनेस का विस्तार करने के लिए बिजनेसमैन को बहुत कम मेहनत करनी पड़ती हैं और बहुत ही कम कीमत में बहुत जल्द ही अच्छे रिजल्ट मिलने लगते हैं।

निवेशक के पॉइंट ऑफ व्यू से देखें तो बहुत कम इन्वेस्टमेंट में एक वेल इस्टैबलिश्ड बिजनेस सेटअप हो जाता है। जिसमें फ्रेंचाइजी लेने वाले की मार्केटिंग कॉस्ट यानी लागत व बिजनेस सेटअप का सारा खर्च बच जाता है और बिना किसी झंझट के ब्रांड नाम से अच्छे पैसे कमाने में सफल होता है।

कुल मिलाकर, देखा जाए तो बिजनेस करने वाले और फ्रेंचाइजी लेने वाले, दोनों व्यक्तियों के लिए यह एक बेहतरीन लाभदायक डील मानी जाती है, इसीलिए आपको इस डील का फायदा उठाना चाहिए। हम उम्मीद करते हैं कि आप अपने बिजनेस का विस्तार करेंगे और अगर आप एक निवेशक है तो एक अच्छे बिजनेस ब्रांड की फ्रेंचाइजी लेकर अच्छी ग्रोथ हासिल करेंगे।