मनी मार्केट फंड की विशेषताएं (Features of Money Market Funds)

मनी मार्केट फंड शॉर्ट-टर्म वित्तिय लक्ष्य को पूरा करने के लिए निवेश करने का एक बेहतरीन निवेश विकल्प है। आपको इनमें निवेश करने से पहले मनी मार्केट फंड की विभिन्न विशेषताएं, various features of money market funds in Hindi, मनी मार्केट म्यूच्यूअल फंड के गुण, मनी मार्केट फंड के लाभ-हानि व फायदे या नुकसान आदि के बारे में जानकारी होनी चाहिए ताकि आप सही तरीके से निवेश कर सकें।

मनी मार्केट फंड की विशेषताएं (Features of Money Market Funds in Hindi)

मनी मार्केट फंड एक अच्छी तरह से विविध पोर्टफोलियो को बनाएं रखते हुए उच्चतम अल्पकालिक आय की पेशकश करने की कोशिश करते है। एक साल तक के छोटे निवेश क्षितिज वाले निवेशक इन फंडों में निवेश कर सकते हैं। आप मनी मार्केट फंड क्या है? और इनके विभिन्न प्रकार के बारे में जानकारी प्राप्त कर इनमें निवेश शुरू कर सकते है।

इन फंडों में नियमित बचत बैंक खाते और सावधि जमा की तुलना में अधिक रिटर्न देने की क्षमता होती है। आइए जानते हैं, मनी मार्केट फंड की विभिन्न विशेषताओं के बारे में, जिनको जानने के बाद आप शॉर्ट टर्म (short-term) वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक सही निवेश निर्णय ले सकते हैं।

छोटी अवधि फंड (Short Duration Funds)

मनी मार्केट म्यूचुअल फंड की अवधि शॉर्ट टर्म यानी 7 दिन से लेकर 365 दिन के बीच होती है, जो आपके शॉर्ट-टर्म वित्तिय गोल के लिए उपयुक्त माने जाते है। मनी मार्केट की यह विशेषता निवेशकों को बहुत कम समय में 6-12% रिटर्न देती हैं।

अल्पकालिक लक्ष्यों के लिए सर्वश्रेष्ठ (Best for Short-Term Goals)

इन फंडों की लगभग निश्चित परिपक्वता अवधि होती है और ये कम लेकिन स्थिर रिटर्न प्रदान करते हैं। यदि आपके पास आगामी खर्च के लिए एक कोष बनाने के लिए एक अल्पकालिक निवेश उद्देश्य है, तो इस प्रकार के म्यूचुअल फंड आपके लिए बढ़िया विकल्प हैं। इनके अलावा, आपके पास हाइब्रिड फंड में निवेश करने का विकल्प भी है, जो आपके शॉर्ट टर्म वित्तिय लक्ष्यों को पूरा कर सकते हैं।

अत्यधिक लिक्विड फंड (Highly Liquid Funds)

मनी मार्केट म्यूचुअल फंड ओपन एंडेड विशेषताओं वाले फंड हैं। उनके पास कोई निकास भार (exit loads) नहीं है और उन्हें जल्दी से भुनाया जा सकता है। ये फंड तत्काल मोचन (redemption) की पेशकश करते हैं, इसलिए नकदी उसी ट्रेडिंग दिन में आपके बैंक खाते में आ जाती है।

बेहतर रिटर्न (Better Returns)

इन फंडों में नियमित बचत बैंक खाते की तुलना में अधिक रिटर्न देने की क्षमता होती है। हालांकि, रिटर्न की गारंटी नहीं है। कुल ब्याज दर व्यवस्था में बदलाव के साथ शुद्ध परिसंपत्ति मूल्य (एनएवी) में उतार-चढ़ाव होने से आपका रिटर्न भी कम-ज्यादा हो सकता हैं। अगर आप सबसे ज्यादा रिटर्न चाहते हैं तो आप इक्विटी फंड के विभिन्न प्रकार में निवेश कर सकते हैं।

नकद या नकद समकक्ष (Cash or Cash Equivalents)

मनी मार्केट म्यूचुअल फंड का उपयोग अल्पकालिक नकदी जरूरतों को प्रबंधित करने के लिए किया जाता है। ये फंड डेट फंड कैटेगरी में ओपन-एंडेड हैं और केवल कैश या कैश समकक्ष में डील करते हैं। इनकी औसत परिपक्वता एक वर्ष की होती है। यह मुद्रा बाजार निधियों की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता (Important characteristics of money market funds) है।

एक वर्ष तक की परिपक्वता अवधि (Maturity One Year)

फंड मैनेजर उच्च गुणवत्ता वाले लिक्विड इंस्ट्रूमेंट्स जैसे ट्रेजरी बिल (टी-बिल), कमर्शियल पेपर और डिपॉजिट सर्टिफिकेट में निवेश करते है। मनी मार्केट फंड मुख्य रूप से यूनिट धारकों के लिए एक साल से कम की प्रतिभूतियों में निवेश करके ब्याज अर्जित करने का लक्ष्य रखते हैं। लघु अवधि में स्थिर आय प्राप्त करने के लिए आप डेट फंड के बारे में जान सकते हैं और निवेश शुरू कर सकते हैं।

लगभग जोखिम मुक्त फंड (Almost Risk Free Funds)

मनी मार्केट म्यूचुअल फंड की कम जोखिम वाली विशेषता इसे अन्य उच्च जोखिम वाली प्रतिभूतियों से अलग करती है। ये फंड फिक्स्ड डिपॉजिट की तरह जोखिम-मुक्त नहीं हैं और न ही ये इक्विटी फंड की तरह बेहद जोखिम भरे हैं, इसलिए निवेश को लगभग सुरक्षित माना जाता है।

लचीले फंड (Flexible Funds)

मनी मार्केट फंड बहुत लचीले होते हैं। ये ग्रोथ और डिविडेंड प्लान की पेशकश करते हैं। आप दैनिक, साप्ताहिक या मासिक आधार पर लाभांश प्राप्त कर सकते हैं। आप अपनी सुविधा के अनुसार अपना प्लान बदल सकते हैं और ट्रांसफर कर सकते हैं। बेहतर आय प्राप्त करने के लिए आप भारत की टॉप कंपनियों की लिस्ट बना सकते हैं और उनमें निवेश शुरू कर सकते हैं।

सुरक्षित निवेश (Secure Investment)

पैसा उच्च क्रेडिट रेटिंग मुद्रा बाजार के साधनों में निवेश होता है, इसलिए ये बाजार में उपलब्ध सबसे सुरक्षित निवेश विकल्पों में से एक हैं। किसी भी निवेश का सुरक्षित होना बहुत जरूरी है, इन फंडों की खासियत यह है कि ये विशेषज्ञ विश्लेषण के साथ आपके निवेश को सुरक्षित प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं।

एसआईपी निवेश (SIP Investment)

ये फंड निवेशकों को उनकी क्षमता के अनुसार निवेश करने की अनुमति देते हैं। निवेशक सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) का विकल्प चुन सकते हैं। इससे निवेशकों पर कोई वित्तीय दबाव नहीं पड़ता है। एसआईपी निवेश निवेशकों को वित्तीय क्षमता और मासिक बचत के अनुसार म्यूचुअल फंड में निवेश करने में मदद करता है।

उच्च क्रेडिट रेटिंग फंड में निवेश (Investing in High Credit Rating Funds)

उच्च रिटर्न (high returns) सुनिश्चित करने के बजाय इस प्रकार के फंडों का फोकस मूल रूप से पूंजी संरक्षण (capital protection) है। इसलिए, फंड मैनेजर केवल उन्हीं उपकरणों में निवेश करते हैं जिनकी क्रेडिट रेटिंग अधिक होती है। इन फंडों की यह विशेषता निवेशकों के लिए उच्च रिटर्न उत्पन्न करने में भी मदद करती है।

विशेषज्ञ प्रबंधन (Expert Management)

उच्च रिटर्न अच्छी फंड योजना पर निर्भर करता है और इन फंडों का प्रबंधन शेयर बाजार विशेषज्ञ द्वारा किया जाता है, इसलिए सबसे अधिक संभावना है कि वे उच्च रेटिंग वाले फंड में निवेश करते हैं और सर्वोत्तम रिटर्न प्रदान करते हैं। म्यूचुअल फंड की यह विशेषता उन्हें अन्य निवेश विकल्पों की तुलना में निवेशकों के बीच सबसे लोकप्रिय बनाती है।

कम व्यय अनुपात (Lower Expense Ratio)

ये फंड लागत सुविधाजनक हैं, इसलिए कोई भी व्यक्ति आसानी से निवेश कर सकता है और समय के साथ निश्चित रिटर्न प्राप्त कर सकता है। यह निवेशकों के लिए अधिक खर्चीला ऑप्शन नहीं है। एक्सपेंस रेश्यो हमेशा कम होता है, इसलिए इन्हें म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने का एक बेहतर विकल्प माना जाता है।

चूंकि, मुद्रा बाजार म्युचुअल फंड विभिन्न संस्थाओं के निश्चित आय वाले संसाधनों में निवेश करते हैं, इसलिए डिफ़ॉल्ट का जोखिम भी होता है। यदि कोई एक कंपनी डिफॉल्ट करती है, तो इससे NAV कम हो जाती है लेकिन आपको याद रखना चाहिए कि जोखिम बहुत कम है क्योंकि फंड मैनेजर केवल उच्च क्रेडिट रेटिंग वाले फंड में ही निवेश करते हैं।

आपने मनी मार्केट फंड की विशेषताएं व गुण के बारे में जानकारी प्राप्त की, जो आपके निवेश निर्णय में फायदेमंद साबित हो सकती हैं। यह एक बेहतरीन निवेश अवसर है, इन फंडों को निवेश के अनुकूल विकल्प के रूप में देखा जाता है क्योंकि वे स्थिर और कम जोखिम वाले रिटर्न देने का प्रयास करते हैं जो कि अन्य तुलनीय विकल्पों जैसे सावधि जमा और बैंक बचत खाते से बेहतर होते हैं।