म्यूचुअल फंड की सामान्य श्रेणियाँ

आज म्युचुअल फंड निवेश करने का सबसे अच्छा माध्यम बन गया है क्योंकि यह हमें शेयर बाजार की जानकारी के बिना सीधे निवेश करने की आजादी देता है। म्यूचुअल फंड की सामान्य श्रेणियाँ (Common Categories of Mutual Funds) की बात की जाएं तो इक्विटी फंड, डेट फंड, मनी मार्केट फंड और हाइब्रिड फंड मुख्य है।

म्यूचुअल फंड की सामान्य श्रेणियाँ (Common Categories of Mutual Funds)

वैसे तो म्यूचुअल फंड को विशेषज्ञों द्वारा कई भागों में बांटा गया है और म्यूचुअल फंड के कई प्रकार होते है, लेकिन म्यूचुअल फंड की मुख्य रूप से चार श्रेणियां होती हैं जिनके बारे में हम यहां चर्चा कर रहे हैं।

जब भी आप म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं, तो आपका निवेश ज्यादातर इन चार श्रेणियों से संबंधित होता है और आपको यही से सबसे अच्छा रिटर्न मिलता है।

इक्विटी फंड (Equity Funds)

फंड हाउस द्वारा इक्विटी ओरिएंटेड स्टॉक में निवेश किए गए पैसे को इक्विटी फंड कहा जाता है। इन फंडों को उच्च जोखिम वाले और उच्च आय जनरेटर फंड के रूप में जाना जाता है।

इक्विटी फंड को 70 से 90% इक्विटी ओरिएंटेड फंड में निवेश किया जाता है ताकि उच्च जोखिम वाले निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिल सके।

इक्विटी म्यूचुअल फंड का लक्ष्य सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों के शेयर बाजार पूंजीकरण में निवेश करके रिटर्न उत्पन्न करना है।

ये फंड बहुत जोखिम भरे होते हैं, इसलिए इन फंडों में निवेश करने से पहले आपको अपनी निवेश क्षमता को ध्यान में रखना चाहिए, क्योंकि यह किसी भी समय ऊपर और नीचे हो सकते है और आपका निवेश समाप्त या डूब सकता है।

लंबी अवधि के लक्ष्य के लिए इक्विटी फंड उपयुक्त होते हैं। इसे मार्केट कैपिटलाइज़ेशन के अनुसार भी विभाजित किया जा सकता है, यानी लार्ज कैप, मिड कैप, स्मॉल या माइक्रो कैप फंड।

इक्विटी फंड अनिवार्य रूप से कंपनी के शेयरों में निवेश होते है और इनका उद्देश्य निवेशकों को इष्टतम पेशेवर प्रबंधन और कम जोखिम के साथ लाभ प्रदान करना है।

डेट फंड (Debt Funds)

डेट फंड एक म्यूचुअल फंड स्कीम है, जो कॉरपोरेट और सरकारी बॉन्ड, डिबेंचर, डेट सिक्योरिटीज, मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स जैसे सर्टिफिकेट ऑफ डिपॉजिट (सीडी), कमर्शियल पेपर (सीपी), ट्रेजरी बिल आदि जैसे फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश होते है।

इन सभी उपकरणों की एक पूर्व-निर्धारित परिपक्वता तिथि और ब्याज दरें होती हैं।

डेट फंड में निवेश करने के कुछ प्रमुख लाभ है जैसे – कम लागत वाली संरचना, उच्च तरलता, स्थिर रिटर्न और उचित सुरक्षा।

डेट फंड म्यूचुअल फंड की सबसे लोकप्रिय श्रेणी है जो इक्विटी फंड की तुलना में कम अस्थिर और कम जोखिम भरा है, लेकिन यह बैंक सावधि जमा की तुलना में सर्वोत्तम रिटर्न प्रदान करने में सक्षम है।

इन फंडों को फिक्स्ड इनकम फंड के रूप में भी जाना जाता है और इनमें लगभग शून्य जोखिम होता है। डेट फंड उन निवेशकों के लिए आदर्श हैं जो नियमित आय का लक्ष्य रखते हैं, लेकिन जोखिम से दूर रहते हैं।

अगर आप बैंक जमा से ज्यादा पैसा कमाना चाहते हैं और अपने पैसे को 2 से 5 साल तक रोक कर रख सकते हैं, तो आप डेट फंड में निवेश कर सकते हैं जो आपको कुछ समय बाद अच्छा रिटर्न देगा और आपका पैसा भी लगभग सुरक्षित रहेगा।

मनी मार्केट फंड (Money Market Funds)

मनी मार्केट फंड निश्चित आय वाले म्यूचुअल फंड हैं जो कम परिपक्वता और न्यूनतम क्रेडिट जोखिम की विशेषता वाली ऋण प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं।

इन फंडों को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि फंड मैनेजर को उधार अवधि के समायोजन के माध्यम से जोखिम को नियंत्रण में रखते हुए उच्च रिटर्न उत्पन्न करने की अनुमति मिलती है।

मनी मार्केट फंड्स को विभिन्न मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स जैसे डिपॉजिट सर्टिफिकेट, ट्रेजरी बिल, कमर्शियल पेपर्स आदि में निवेश किया जाता है। मनी मार्केट म्यूचुअल फंड की औसत परिपक्वता एक वर्ष होती है।

ये फंड सबसे कम-अस्थिर प्रकार के म्यूचुअल फंड हैं और उच्च स्तर की तरलता बनाए रखते हुए एक वर्ष तक की अवधि में अच्छा रिटर्न देते हैं।

इन योजनाओं को उन निवेशकों के लिए आदर्श माना जाता है जो बहुत कम जोखिम उठा सकते हैं। चूंकि वे छोटी अवधि के उपकरणों में निवेश होते हैं, इसलिए अर्थव्यवस्था में ब्याज दर में बदलाव के प्रति बहुत संवेदनशील नहीं होते हैं।

ये अपेक्षाकृत सुरक्षित भी हैं क्योंकि मुद्रा बाजार के साधनों में जोखिम कम होता है। इसे म्यूचुअल फंड का सबसे कम जोखिम वाला वर्ग माना जाता है।

कम से कम 3-6 महीने के निवेश क्षितिज के लिए आदर्श और समान अवधि के बैंक सावधि जमा की तुलना में बेहतर रिटर्न देने में सक्षम है।

हाइब्रिड फंड (Hybrid Funds)

हाइब्रिड फंड एक प्रकार के म्यूचुअल फंड हैं जो एक से अधिक प्रतिभूतियों में निवेश किये जाते हैं इसलिए हाइब्रिड फंड क्या है और क्या आपको इनमें निवेश करना चाहिए? इसके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए।

ज्यादातर, ये इक्विटी और डेट सिक्योरिटीज के संयोजन होते हैं और कभी-कभी इनमें गोल्ड या रियल एस्टेट फंड भी शामिल होते हैं। इन फंडों को एसेट एलोकेशन फंड और बैलेंस्ड फंड के रूप में भी जाना जाता है।

हाइब्रिड फंड में इक्विटी और डेट फंड का मिक्सर होता है, यह मिक्सर 1:1 या 60-40 या 40-60 या कोई अन्य हो सकता है। यह पूरी तरह से फंड मैनेजर के निर्णय और निवेशकों के जोखिम पर निर्भर करता है।

फंड मैनेजर अपने सही फैसले के जरिए निवेशकों को ज्यादा से ज्यादा रिटर्न देने की कोशिश करता है ताकि निवेशकों का पैसा सुरक्षित रहे और ज्यादा से ज्यादा रिटर्न भी मिले।

हाइब्रिड फंड में इक्विटी और डेट के मिक्सचर की वजह से इक्विटी से थोड़ा कम रिस्क होता है, जबकि डेट फंड से रिस्क ज्यादा होता है, लेकिन इसमें निवेशकों को अच्छा रिटर्न देने की क्षमता होती है।

हाइब्रिड फंड म्यूचुअल फंड का वह वर्ग है जो निवेशकों को मध्यम रिटर्न के साथ मध्यम जोखिम प्रदान करता है।

अगर आप मध्यम जोखिम लेने के लिए तैयार हैं और 3-5 साल के लिए अपना पैसा रख सकते हैं, तो हाइब्रिड फंड आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है।

अगर आप निवेश करना चाहते हैं तो स्टॉक मार्केट में निवेश करने के लिए बेस्ट 3-इन-1 डीमैट अकाउंट आपके लिए उचित होगा।

ये हैं म्यूच्यूअल फण्ड की चार मुख्य कॉमन कैटेगरी, इन कैटेगरी को भी एक्सपर्ट्स ने कई हिस्सों में बांटा है, लेकिन कुल मिलाकर ये सभी इन चार कैटेगरी से संबंधित होते हैं।

जो निवेशक अपनी निवेश जोखिम को कम करना चाहता है तो उनके लिए म्यूचुअल फंड में निवेश एक सबसे अच्छा विकल्प है लेकिन यह बाजार के जोखिम पर निर्भर करता है, इसलिए अपनी मेहनत की कमाई का निवेश करने से पहले कृपया आपको अपनी फंड योजनाओं के बारे में बुनियादी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।