Business Model क्या है एवं बिजनेस मॉडल के फायदे

किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए बिजनेस मॉडल यानी बिजनेस प्लान बनाना बहुत आवश्यक है इसीलिए आपको बिजनेस की शुरुआत से पहले बिजनेस मॉडल क्या है? (Business Model kya hai) और बिजनेस प्लान बनाने के विभिन्न फायदों के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

बिजनेस मॉडल क्या है? (Business Model kya hai)

किसी भी बिजनेस को ऑपरेट करने के लिए पूरी प्लानिंग करना की यह बिजनेस कब और कैसे चलेगा, कब और कैसे स्केल होगा, कितना स्केल होगा, फंडिंग कहां से आएगी, कौन-कौन से खर्चे होगे, प्रॉफिट कहां से होगा, कब और कितना प्रॉफिट होगा, बाजार में इस बिजनेस की मांग और सप्लाई कितनी है, कस्टमर बेस क्या होगा और इसके अलावा भी बहुत सारे तथ्यों और पहलुओं को ध्यान में रखकर पूरी प्लानिंग करना एक बिजनेस मॉडल कहलाता है।

एक व्यवसाय मॉडल इस बात का स्पष्टीकरण है कि आप अपने ग्राहकों को उचित मूल्य पर कैसे बेस्ट वैल्यू प्रदान करते हैं और आप अपने उत्पाद या सेवा के लिए कितना शुल्क ले सकते हैं।

इसमें बिजनेस आइडिया, बिजनेस डिजाइन, कच्चा माल, विनिर्माण, श्रमिक, मार्केटिंग, वितरण, बिक्री प्रक्रिया, मूल्य निर्धारण रणनीतियाँ, भुगतान के तरीके, भुगतान समय आदि शामिल होते हैं।

एक Business Model को आपके व्यवसाय या स्टार्टअप के बारे में महत्वपूर्ण प्रश्नों का उत्तर देना होता है और व्यवसाय के लिए एक मजबूत दृष्टिकोण निर्धारित करना होता है।

सभी व्यावसायिक प्रक्रियाएं और नीतियां जिन्हें एक कंपनी अपनाती है और उनका अनुसरण करती है, व्यवसाय मॉडल का हिस्सा हैं। चाहे आप एक नया उद्यम शुरू कर रहे हों या एक नए बाजार में विस्तार कर रहे हों, एक बिजनेस मॉडल बनाना आवश्यक है।

आप सफलता की दिशा निर्धारित करते हुए विभिन्न बिजनेस अवसरों के बारे में मौलिक धारणाओं और निर्णयों को ध्यान में रखते हुए व्यवसाय मॉडल का उपयोग कर सकते हैं।

बिजनेस मॉडल के प्रकार (Types of Business Models)

बाजार में कई तरह के बिजनेस मॉडल (Types of business model) उपलब्ध हैं। प्रत्येक मॉडल संगठन और उद्योग के अनुसार बहुत अलग-अलग होता है। जिसमें मुख्य रूप से शामिल हैं:

  1. सदस्यता मॉडल (Subscription Model)
  2. लेनदेन मॉडल (Transaction Model)
  3. विनिर्माण मॉडल (Manufacturing Model)
  4. खुदरा विक्रेता मॉडल (Retailer Model)
  5. फ्रीमियम मॉडल (Freemium Model)
  6. एफिलिएट मॉडल (Affiliate Model)
  7. फ्रेंचाइजी मॉडल (Franchise Model)
  8. वितरण मॉडल (Distribution Model)
  9. सेवा मॉडल (Service Model)
  10. लीज मॉडल (Lease Model)
  11. बंडलिंग मॉडल (Bundling Model)
  12. प्रीमियम मॉडल (Premium Model) आदि।

एक बिजनेस मॉडल बनाने के लिए गहन विचार और विश्लेषण की आवश्यकता होती है। कंपनी और उत्पाद निर्माताओं को बाजार की जरूरतों और ग्राहकों के लिए जो सबसे ज्यादा मायने रखता है, आदि पर ध्यान देना चाहिए।

एक व्यवसाय मॉडल के प्रमुख घटक (Key Components of the Business Model)

जब भी कोई व्यवसाय स्थापित होता है, तो वह प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से एक विशेष व्यवसाय मॉडल को अपनाता है जो व्यावसायिक उद्यम द्वारा अपनाए गए मूल्य निर्माण, वितरण और नियंत्रण प्रणाली के डिजाइन का वर्णन करता है।

एक सफल व्यवसाय मॉडल के लिए आवश्यक है कि वह पूरी तरह से व्यवस्थित हो। एक सुव्यवस्थित बिजनेस मॉडल आपके व्यवसाय को अच्छी तरह से प्रबंधित करने में मदद करता है। सफल बिजनेस मॉडल के प्रमुख घटकों में शामिल है:

  1. व्यापार दृष्टि (Business vision)।
  2. लक्षित ग्राहक।
  3. ग्राहक आधार।
  4. बाजार लक्ष्य।
  5. संगठन की ताकत और चुनौतियां।
  6. उत्पादों या सेवाओं की लागत और मूल्य।
  7. आवश्यक निवेश।
  8. ग्रोथ संभावना।
  9. आय, लाभ और व्यय।
  10. बाजार की मांग और आपूर्ति।
  11. व्यवसाय के अन्य आवश्यक तत्व।

व्यापार मॉडल और राजस्व मॉडल अक्सर समानार्थक रूप से उपयोग किए जाते हैं, लेकिन दोनों एक दूसरे से भिन्न होते हैं।

एक बिजनेस मॉडल को समग्र रूप से परिभाषित किया जाता है और यह बताता है कि कंपनी कैसे संचालित होती है, विकसित होती है और बाजार में प्रतिस्पर्धा का सामना करती है। एक राजस्व मॉडल इस संरचना का वर्णन करता है कि एक कंपनी राजस्व या आय कैसे उत्पन्न करेगी।

एक बिजनेस मॉडल का सार (Essence of a Business Model)

एक व्यवसाय मॉडल का सार यह है कि यह उस तरीके को परिभाषित करता है जिसमें व्यावसायिक उद्यम ग्राहकों को वैल्यू प्रदान करता है, ग्राहकों को उस वैल्यू की कीमत का भुगतान करने के लिए प्रेरित करता है, इस भुगतान को व्यावसायिक नैतिकता नियमों का पालन करके लाभ में परिवर्तित करता है और व्यवस्थित रूप से बिजनेस विस्तार करने में मदद करता है।

व्यापार मॉडल में ग्राहक सबसे महत्वपूर्ण होते हैं। आपको पता होना चाहिए कि कौन से लोग आपके व्यवसाय के उत्पादों और सेवाओं को चाहते हैं और वे कितनी आसानी से उन तक पहुंच सकते हैं। आज, व्यापार मॉडल का उपयोग न केवल पारंपरिक व्यावसायिक उद्योगों यानी ऑफ़लाइन बल्कि ऑनलाइन क्षेत्र में भी किया जाता है।

जब आप एक बिजनेस मॉडल बनाते हैं, तो आपको यह ध्यान रखना होगा कि आपके बिजनेस की जरूरतों को पूरा करने के लिए क्या आवश्यकताएं हैं, बाजार में कितनी मांग है और ग्राहक कैसे मिलेंगे आदि। इस तरह, यह दर्शाता है कि आपके ग्राहक क्या चाहते हैं, कैसे चाहते हैं और कैसे एक व्यवसाय इन आवश्यकताओं को सर्वोत्तम रूप से पूरा कर सकता है और लाभ में परिवर्तित हो सकता है।

बिजनेस मॉडल के लाभ (Benefits of Business Model in Hindi)

बिजनेस मॉडल किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए बहुत जरूरी है चाहे वह छोटा हो या बड़ा, इसलिए पूरी प्लानिंग के साथ तैयार किया गया बिजनेस मॉडल किसी भी बिजनेस की सफलता में अहम भूमिका निभाता है।

हम यहां बिजनेस मॉडल के कई फायदों के बारे में चर्चा कर रहे हैं जो आपको सही निर्णय लेने में मदद कर सकते हैं, तो आइए जानते हैं इसके विभिन्न फायदों के बारे में:

  1. व्यवसाय मॉडल को किसी भी व्यवसाय की नींव माना जाता है जिसके माध्यम से उसका वर्तमान और भविष्य निर्धारित किया जाता है।
  2. किसी भी व्यवसाय को अच्छी तरह से संचालित करने के लिए बिजनेस मॉडल बहुत जरूरी है। इसके बिना कोई भी व्यवसाय लंबे समय तक बाजार में टिक नहीं सकता है।
  3. उचित योजना के साथ शुरू किए गए व्यवसाय का प्रबंधन और प्रशासन बहुत अच्छा होता है, जिसके कारण कम से कम समस्याओं का सामना करना पड़ता है और यह आसानी से ग्रो कर सकता है।
  4. आय और व्यय का पूर्ण प्रबंधन किसी भी कंपनी या कॉर्पोरेट के मुनाफे को बढ़ाता है और बैलेंस शीट को मजबूत करता है जो कहीं से भी ऋण या धन प्राप्त करने में मदद करता है।
  5. बिजनेस मॉडल बनाते समय ग्राहकों की जरूरतों को ध्यान में रखा जाता है जिससे उस बिजनेस के सफल होने की संभावना बढ़ जाती है।
  6. व्यवसाय मॉडल बाजार की आवश्यकताओं, मांग और आपूर्ति, वितरण व्यवस्था आदि को ध्यान में रखता है ताकि प्रतिस्पर्धा से आसानी से निपटा जा सके।
  7. बिजनेस मॉडल किसी भी कंपनी या संगठन के आंतरिक प्रबंधन को बहुत मजबूत बनाता है, जिससे उन्हें न्यूनतम समस्याओं का सामना करना पड़ता है और बहुत तेजी से कुशलता के साथ आंतरिक कार्य होते है।
  8. कोई भी व्यवसाय या उद्यमिता अपने बिजनेस मॉडल के आधार पर समय पर निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते है, वह भी न्यूनतम संसाधनों के साथ।
  9. किसी भी प्रकार के बिजनेस को बाजार में बने रहने के लिए, एक उचित व्यवसाय मॉडल होना चाहिए, जिसके बिना व्यवसाय का अस्तित्व नहीं माना जाता है।
  10. व्यवस्थित रूप से शुरू किया गया व्यवसाय बहुत तेजी से विस्तार कर सकता है और कम समय में बहुत बड़े बाजार पर कब्जा कर सकता है। यह व्यापार मॉडल का सबसे महत्वपूर्ण लाभ है जो बाजार की स्थिति की पहचान करने और इसे लंबे समय तक बनाए रखने में मदद करता है।

किसी भी व्यवसाय या संगठन को बड़े पैमाने पर विस्तारित करने के लिए, आपके पास एक उचित व्यवसाय योजना या व्यवसाय मॉडल होना चाहिए। इसके बिना संस्था ज्यादा समय तक बाजार में नहीं रह सकती है।

इसलिए, कोई भी व्यवसाय या काम शुरू करने से पहले उसका ठीक से विश्लेषण कर लें, बाजार की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए एक योजना बना लें जिससे आपको अपना बिजनेस शुरू करने के बाद कोई परेशानी न हो।