पैसे कमाने के लिए आत्मविश्वास कैसे बढ़ाए?

जीवन हो या बिजनेस किसी भी मोड में आत्मविश्वास की महत्वपूर्ण भूमिका होती है इसलिए आपको पता होना चाहिए कि पैसे कमाने के लिए आत्मविश्वास कैसे बढ़ाए, बिजनेस में आत्मविश्वास कैसे बनाए रखें और जीवन व बिजनेस में लंबी सफलता, नेम-फेम के लिए आत्मविश्वास (Self confidence) की क्या भूमिका है?

आत्मविश्वास हर व्यक्ति में जन्म से होता है। जैसे-जैसे व्यक्ति बड़ा होता है उस पर समाज या आसपास के वातावरण का असर होने लगता है। वह हमेशा यही सोचता है कि पैसे कमाने के लिए आत्मविश्वास कैसे बढ़ाए (Aatmvishwas kaise badhaye) और बिजनेस में सफलता प्राप्त करने के लिए हमेशा आत्मविश्वास कैसे बनाए रखें?

लेकिन, मजे की बात यह है कि हमारे आसपास का वातावरण यानी समाज आत्मविश्वास को बढ़ाने की कोशिश नहीं करता, उसको दबाने की कोशिश करता है। Aatmavishwas को बढ़ाने की कोशिश बहुत कम लोग करते हैं इस कारण 90% लोग सम्पूर्ण विश्व में Confidence को अपने अन्दर ही दबाए रखते हैं। वे इस भूल-भुलैया से कभी भी बाहर नहीं आ पाते और अपना जीवन गरीबी में ही व्यतीत करते हैं।

आत्मविश्वास कैसे जगाए – Confidence kaise badhaye

आपके आस-पास घट रही घटनाओं को ध्यान से देखें या Observe करें, उन घटनाओं को प्रकृति से जोड़कर देखें कि क्या घट रहा हैं, कैसे घट रहा हैं, क्यों घट रहा हैं और एक निचोड़ निकाले क्या गलत हैं और क्या सही।

आपके आस-पास अलग-अलग प्रकार के लोग रहते हैं, हर एक का नजरिया अलग-अलग होता हैं। आपको उन सभी लोगों को सुनना (Listening) हैं, Observe करना हैं और एक निचोड़ निकालना हैं कि क्या सही हैं और क्या गलत इसके बाद कोई एक्शन लेना हैं।

योग करना और भगवान, अल्लाह या God का ध्यान करना। इससे आपके अन्दर धैर्य उत्पन्न होगा। जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं कर पाने की शक्ति मिलेगी।

अपने ज्ञान को बढ़ाना, अपनी गलतियों से सीखना। ज्ञान को बढ़ाने के लिए कोई-सी भी अच्छी किताब पढ़ सकते हैं, अपने जीवन में घटित घटनाओं से सीख सकते हैं, दूसरे लोगों के जीवन से सीख सकते हैं।

आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं हैं आप अपने आप से, अपने आस-पास की घटनाओं से और लोगों के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते हैं। अपने आप से लिए गए इस ज्ञान को सम्पूर्ण विश्व में कोई नहीं सिखा सकता और मैं विश्वास के साथ कहता हूं कि इसके दम पर आप अपने आत्मविश्वास को जगा या बढ़ा सकते हैं।

धैर्य बनाए रखें – जीवन में कई कठिनाईयां आती है, कभी-कभी प्रकृति भी परीक्षा लेती है इस कारण हम बीमार भी पड़ जाते है और हमारे संबंधों में भी कई परेशानियां आती है, इन सभी परिस्थितियों का सामना करने के लिए धैर्य की आवश्यकता पड़ती है। बिना धैर्य के जीवन निराश और तनावपूर्ण हो जाता है इसलिए धैर्य बनाए रखें।

धैर्य रखने के लिए आपको अपने ऊपर काम करना पड़ेगा।

अपने मन और शरीर को स्वस्थ बनाए रखें, अच्छे लोगों के साथ रहे, योग करें, अपने ज्ञान को बढ़ाएं और प्रकृति से सीखें।

समस्याओं का सामना करें – जीवन का सीधा सा फंडा है कि जब तक जीवन है तब तक समस्याऍ हैं। आपको समस्याओं से घबराना नहीं है उनसे सबक लेना है और उस वजह को ढूंढ निकालना हैं जिस वजह से समस्याऍ उत्पन्न हुई हैं।

जल्दबाजी न करें क्योंकि जल्दबाजी में लिया गया निर्णय हमेशा गलत होता हैँ। हर लक्ष्य को प्राप्त करने में समय लगता हैं।

करियर और बिजनेस में आत्मविश्वास बढ़ाने के तरीके

आत्मविश्वास हर व्यक्ति में होता है इसमें कोई शक नहीं है लेकिन हमारे आस-पास के नकारात्मक माहौल के कारण हम लगातार इसकी कमी महसूस करते है इसलिए बार-बार हमारे दिमाग में सवाल आता है कि aatmvishwas kaise badhaye और आत्मविश्वास को हमेशा के लिए कैसे बनाए रखें?

उत्तर – आप और हम अपने ऊपर काम नहीं करते। बिना अपने ऊपर काम किये और कुछ नया सीखें और बार बार अभ्यास किये, हमारे और आपके अंदर आत्मविश्वास कैसे आ सकता है। यह आप भी सोचें एकांत में जा कर, आपको आपका उत्तर मिल जाएंगा।

इस सोए हुए आत्मविश्वास को जगाना कोई कठिन काम नहीं है लेकिन आपको अपने लिए कुछ समय निकालना पड़ेगा और यहां जो स्टेप बताए जा रहे है उनको हमेशा अपनी रोज की जीवन-शैली में शामिल करना पड़ेगा। आइए जानते हैं आत्मविश्वास को बढ़ाने के कुछ टिप्स –

ध्यान करना

समय निकालकर हमेशा किसी भी समय Exercise के साथ ध्यान करें। ध्यान का मतलब यह नहीं कि पूजा-पाठ करना बल्कि आपको एकांत में बैठ कर गहरी सांसे लेनी है और अपने जीवन के उद्देश्य के बारे में सोचना और उसकी प्राप्ति को महसूस करना है।

जीवन है तो आप है और आप है तो Confidence है। आप स्वस्थ होंगे तभी दूसरों की सेवा कर पाएंगे इसलिए सबसे जरूरी हैं स्वस्थ रहना। बिना स्वस्थ रहे आप तनाव महसूस करेंगे।

ध्यान आपको अंदर से मजबूत करेंगा वही व्यायाम आपको बाहर से यानी शारीरिक रूप से मजबूत करेंगा और ये दोनों मिलकर आपको तनाव मुक्त काम करने और निर्णय लेने में मदद करेंगे।

धैर्य रखना  

धैर्य व्यक्ति की वह शक्ति हैं जिसके बल पर असंभव कार्य भी किए जा सकते हैं। धैर्य के बिना व्यक्ति जीवन में सफल होते होते रह जाता है। एक थोड़ी सी जल्दबाजी के कारण रिश्ते टूट व बिगड़ जाते है, जीवन में बहुत उतार-चढ़ाव आ जाते है इसलिए जीवन के हर मोड़ पर कुछ भी काम करने या निर्णय करने से पहले थोड़ा सोचें और उस एक्शन के बारे में विश्लेषण करें ताकि आपको भविष्य में ज्यादा हानि का सामना नहीं करना पड़े।

धैर्य कायरता की निशानी नहीं हैं। यह आत्मविश्वास की निशानी हैं। धैर्य रखना हर किसी के बस की बात नहीं हैं, केवल आप ही धैर्य रख सकते हैं क्योंकि आपके अंदर आत्मविश्वास जन्म से कुट-कुट कर भरा है।

हमेशा सीखते रहना 

आत्मविश्वास को जगाने और भविष्य में बनाए रखने और लगातार अपने बिजनेस से पैसे कमाने के लिए आपको हमेशा सीखते रहना होगा। आप कहीं से भी सीख सकते है। आप प्रकृति से सीख सकते है, अपने आस-पास के लोगों से और माहौल से सीख सकते है, आप इंटरनेट से सीख सकते है और अपने जीवन में घटित घटनाओं और अनुभवों से सीख सकते है।

आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है आपने इन सभी से कुछ सीख लिया तो दुनिया की कोई भी व्यवस्था और शिक्षा नीति से जीवन के उद्देश्य और आत्मविश्वास के बारे में सीखने कि आवश्यता नहीं है। आप कभी भी अपने जीवन में हतोत्साहित नहीं होगे और आत्मविश्वास की कमी भी महसूस नहीं करेंगे।

ईमानदारी रखना  

ईमानदारी वह औजार है जिसके बल पर व्यक्ति तनाव मुक्त हो कर जीवन जीता है। ईमानदार व्यक्ति को ज्यादा सोचनें और याद रखने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। इससे आप बिजनेस, करियर और ऑफिस में हमेशा मोटिवेट व आत्मविश्वासी रहते है।

इससे व्यक्ति अंदर से अच्छा महसूस करता है और जब कभी भी आवश्यकता पड़ती है तब उसके आस-पास के लोग सहायता कर लेते है। जिससे वह आत्मविश्वास तो महसूस करता ही है इसके साथ-साथ तनाव मुक्त जीवन व्यतीत करता है।

ईमानदार बनने के लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है। आपको अपने दिमाग को बताना है कि आज से मैं किसी के साथ धोखा नहीं करूंगा और हमेशा सच बोलूंगा। आपको यह काम हमेशा अपने जीवन में करना है। कुछ समय बाद आपका सारा तनाव खत्म हो जाएंगा और आपको सफलता मिलने लगेगी।

निर्णय लेना 

निर्णय हर व्यक्ति लेता है लेकिन सोच समझकर और धैर्य के साथ सही समय पर निर्णय लेना Confidence कहलाता है। इसके लिए आपको अंदर से मजबूत बनना पड़ेगा और हमेशा ज्ञान प्राप्त करते रहना होगा।

आपको कुछ नहीं करना है सिर्फ सीखते रहना है, अभ्यास करते रहना है और अच्छे लोगों के संपर्क में रहना है। अच्छे लोगों से मतलब आपके विचार उनसे मिलते हो और उनके पास बैठने पर कुछ न कुछ नया सीखने को मिलता हो।

जीवन में निर्णय लेना भी उतना ही आवश्यक है जितना भोजन और पानी क्योंकि जिस तरह से भोजन और पानी के बिना जीवन नहीं चल सकता उसी तरह निर्णय के बिना शुरुआत नहीं हो सकती और बिना शुरुआत के सफलता नहीं मिल सकती इसलिए निर्णय ले लेकिन बिना सोचें और समझे नहीं क्योंकि एक निर्णय आपकी जिंदगी बना सकता है और बिगाड़ भी सकता है।

शुरुआत करना 

कोई निर्णय लेना और शुरुआत करना इन दोनों में बहुत अन्तर है। लोग निर्णय कर लेते है और सोचते ही रह जाते हैं वे शुरुआत नहीं कर पाते। अगर कोई आइडिया आपके दिमाग में आएं तो उस आइडिया पर थोड़ा समय देकर उसके लाभ और हानि के बारे में जानकारी प्राप्त करें।

उस आइडिया पर ज्यादा समय तक विचार-विमर्श ना करें और अपने दिमाग में ना घुमाएं क्योंकि ज्यादा दिमाग में घुमाने पर हम हमेशा नकारात्मकता की ओर जाते है और शुरुआत नहीं कर पाते है, अगर शुरुआत कर भी ली तो हमेशा गलत परिणाम ही मिलता है।

बिना शुरुआत किये हम कोई काम नहीं कर सकते, उसी प्रकार शुरुआत किये बिना सफलता नहीं मिल सकती इसलिए शुरुआत करें, बार-बार यह करेंगे तो निश्चित रूप से आपके आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी।   

मन की शांति और संतुष्टि 

मन की शान्ति के बिना व्यक्ति कुछ करने के लिए जल्दबाजी करता हैं और गलत रास्ते पर चला जाता हैं इसलिए अन्दर से शान्त रहे, जल्दबाजी ना करें।

मन की संतुष्टि ही व्यक्ति की सफलता और असफलता तय करती है। मन संतुष्ट तभी हो सकता है जब व्यक्ति अपने और अपने काम के प्रति ईमानदार रहे और हमेशा नया सीखता रहे। इसके अलावा अन्य कोई उपाय नहीं है।

समस्याओं का सामना करना 

समस्याएं लक्ष्य प्राप्त करने के लिए हर व्यक्ति के सामने आती हैं लेकिन इन समस्याओं का सामना करना या इनको नए रूप से हल करना ही वास्तविक परीक्षा है। यहां पर ही व्यक्ति की सफलता और असफलता तय होती है।

समस्याओं का नाम ही जीवन है। जब हमें यह पता है और मॉटिवेशनल स्पीकर्स से हमेशा यही सुनते आए है तो हम घबराते क्यों है?, इनको दूर करने के लिए अंधविश्वास का सहारा क्यों लेते है? जबकि यह पता है कि ये समस्याएं कुछ समय के बाद अपने आप खत्म हो जाएगी।

आप सभी से मैं अनुरोध करता हूं कि जीवन में समस्याएं किसी न किसी रूप में आएगी और आप बीमार भी पड़ेगे लेकिन आपको सीखते रहना है और इनको दूर करने के लिए लगातार प्रयास करते रहना है और किसी भी अंधविश्वास का सहारा नहीं लेना है। ये समस्याएं समय के साथ-साथ अपने आप खत्म हो जाएगी।

गलतियां करना और उनसे सीखना  

गलतियां हर व्यक्ति से होती हैं लेकिन इन गलतियों से सीखना और दोबारा ना करना Confidence का प्रतीक हैं। जीवन में हर व्यक्ति से गलतियां होती है लेकिन उनसे कुछ सीख नहीं लेना यह गलत है।

आपको गलतियां करने से डरना नहीं है, उनसे कुछ सीखना है और उनको दोबारा दोहराना नहीं है। गलतियों से मतलब यह नहीं कि आप कोई गलत काम करें या किसी को हानि पहुंचाए।

किसी भी काम को करने से डरे नहीं। उस काम को करने के लिए जरूरी स्किल सीखें और आगे बढ़े। इन्हीं गलतियों से सीखते हुए आप आगे बढ़ेगे और एक दिन निश्चित रूप से सफलता मिलेगी।  

लोगों से अच्छे संबंध बनाए रखना  

आपकी सोच हमेशा लोगों के बारे में सकारात्मक (Positive) होनी चाहीए। आपको लोगों के बारे में कभी बुरा नहीं सोचना हैं, चाहे लोग आपके बारे में कुछ भी सोचें।

हमारे आस पास सबसे ज्यादा नकारात्मकता का प्रभाव है इसलिए दूसरे लोग कुछ भी सोचें आपको उनके बारे में अच्छा सोचना है। इससे आप अंदर से हल्का महसूस करेंगे और धीरे-धीरे लोग आपके साथ भी अच्छा व्यवहार करने लगेंगे।

अपने आपको जितना अंदर से हल्का रखेंगे उतना ही आत्मविश्वास आएगा इसलिए बेवजह का तनाव ना लें और अपने आपको हमेशा स्वस्थ, मॉटिवेटेड और पॉजिटिव रखें।

आप इनके बारे में भी जान सकते है –

बिजनेस प्रोफेशनल के लिए 10 आवश्यक बिजनेस स्किल्स

बिजनेस करियर के लिए सर्वाधिक मांग वाली विदेशी भाषाएं

हम हमेशा गरीब क्यों रहते हैं?

जीवन और बिजनेस में समस्याएं और दुख आते रहते है, आपको इनका सामना करना है और विपरीत परिस्थितियों में कमजोर नहीं पड़ना है, बस इसी का नाम आत्मविश्वास है और इन्हीं माध्यम से हम सभी आत्मविश्वास बढ़ा सकते है और हमेशा बनाए रख सकते है, इनके अलावा सभी बातें एक ढोंग और दिखावा है।