बिजनेस डेवलपमेंट एवं बिजनेस डेवलपर

बिजनेस डेवलपमेंट क्या है?

बिजनेस डेवलपमेंट (Business Development) एक व्यावसायिक गतिविधि है जो रणनीति के कार्यान्वयन, बाजार की जरूरतों, संबंधित ग्राहक आधार, मजबूत व्यावसायिक संबंधों, टेक्नोलॉजी, ग्राहकों की संतुष्टि, बाजार की प्रतिस्पर्धा, व्यापार स्थिरता, राजस्व और व्यय का संतुलन, लाभप्रदता और दीर्घकालिक व्यापार विकास पर केंद्रित होती है।

बिजनेस डेवलपमेंट व्यवसाय, वाणिज्य और संगठन के विकास के अवसरों को विकसित करने और कार्यान्वित करने के लिए कई कार्यों व प्रक्रियाओं का निर्माण करता है और बिजनेस को उचित प्लानिंग के साथ आगे बढ़ाने व दीर्घकालीन लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करता है।

बिजनेस डेवलपमेंट का अर्थ

व्यवसाय विकास का अर्थ किसी छोटे या बड़े संगठन, गैर-लाभकारी या लाभकारी उद्यम द्वारा अपने व्यवसाय के हित में नियोजित गतिविधियों से लिया जा सकता है। इसका मुख्य उद्देश्य किसी उद्यम को समय के साथ बेहतर बनाना और मुनाफे के साथ एक बड़ा बिजनेस ब्रांड बनाना है।

बिजनेस डेवलपमेंट की मुख्य जिम्मेदारी व्यवसाय को ग्रो करना है ताकि अवसरों को प्रभावी ढंग से लक्षित किया जा सके, सही ग्राहकों तक पहुंचा जा सके और नई व्यावसायिक भावनाओं को खोज कर समाज को बेहतरीन रिजल्ट ओरिएंटेड आउटपुट दिया जा सके।

इस लक्ष्य को क्रियान्वित करने और पूरा करने की रणनीतियाँ एक इंडस्ट्री से दूसरी इंडस्ट्री में अलग-अलग होगी हो सकती है, लेकिन बिजनेस डेवलपमेंट प्रोसेस लगभग सभी संगठनों के लिए एक समान ही होती है।

बिजनेस डेवलपमेंट में शामिल गतिविधियाँ

रणनीतिक पहल करना
बेहतरीन नेटवर्किंग
कुशल बजट प्रबंधन योजना
बिजनेस पार्टनरशिप
बाजार का विकास
बाजार आवश्यकता
बिजनेस विस्तार
बाजार अनुसंधान
प्रतियोगी विकास
योजनाबंद्ध मार्केटिंग
कुशल नेगोशिएशन
सेल्स व सेल्स इनसाइट्स
लागत बचत के प्रयास

ये सभी गतिविधियाँ बिजनेस डेवलपमेंट प्रक्रिया में शामिल होती हैं, ताकि वे सही संभावित ग्राहकों तक पहुँच सकें और दीर्घकालिक विकास कर सकें। उचित रूप से की गई व्यवसाय योजना को बिजनेस डेवलपमेंट का एक हिस्सा माना जाता है जो किसी भी संगठन की सफलता के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

बिजनेस डेवलपमेंट गतिविधियाँ बजट, मार्केटिंग, बिक्री, संचालन, उत्पाद प्रबंधन और विक्रेता प्रबंधन आदि सहित विभिन्न विभागों में फैली हुई हैं। एक सफल बिजनेस डेवलपमेंट प्लान व्यवसाय को बेहतर बनाने और ग्राहकों को मूल्य प्रदान करने के लक्ष्य के साथ एक कंपनी के भीतर हर विभाग को प्रभावित करता है।

बिजनेस डेवलपर (Business Developer)

बिजनेस डेवलपर विश्लेषणात्मक तैयारी के साथ-साथ बिजनेस प्लान के कार्यान्वयन के बाद के समर्थन और निगरानी के लिए नियुक्त किया जाता है। उनके पास व्यवसाय प्रबंधन, बिक्री, मार्केटिंग, वित्त, निवेश, बैंकिंग आदि का अनुभव होता है।

कभी-कभी वे बिजनेस ब्रांडिंग, बिजनेस विस्तार, नए उपयोगकर्ता अधिग्रहण और व्यावसायिक जागरूकता के उद्देश्यों के साथ बिक्री प्रबंधन जानकारी का उत्पादन करने के लिए डेटा का प्रबंधन और विश्लेषण भी करते हैं।

बिजनेस डेवलपर के कार्य (Works of Business Developer)

  • व्यापार और समग्र उद्योग और विकास अनुमानों की वर्तमान स्थिति पर ध्यान केंद्रित करना और विश्लेषण करना।
  • अपने स्तर पर नए बाजार रुझानों, विकास क्षेत्रों और ग्राहकों सहित नए व्यापार अवसरों की खोज व पहचान करना।
  • मौजूदा बाजारों, व्यापार प्रतियोगियों और प्रतियोगिताओं, राजस्व के प्राथमिक स्रोतों, रणनीतिक साझेदारों के बारे में जानना।
  • व्यवसाय की पूरी प्रक्रिया को टेक्नोलॉजी की सहायता से आसान बनाना और अधिकतम लाभ उत्पन्न करने के लिए उत्पादन की लागत को कम करना।
  • बाजार विश्लेषण करने के लिए बाजार अनुसंधान टीम के साथ काम करना कि ग्राहक उत्पादों और सेवाओं के बारे में कैसे प्रतिक्रिया दे रहे है।
  • कस्टमर बेस को पहचानना व ग्राहकों की जरूरतों के अनुसार उत्पाद बनाने के लिए प्रोडक्ट डेवलपमेंट टीम से बात करना।
  • बाजार में लंबे समय तक कारोबार को बनाए रखने के लिए एक बिजनेस मॉडल डिजाइन करना और दीर्घकालिक सतत विकास पर ध्यान केंद्रित करना।
  • व्यवसाय की वृद्धि और उनसे अधिकतम उत्पादन प्राप्त करने के लिए विभिन्न व्यावसायिक व्यक्तियों के साथ संपर्क और संबंध बनाना।
  • मौजूदा ग्राहक संबंधों को बनाए रखते हुए, लक्षित बाजार में संभावित ग्राहकों की पहचान करना व संभावित ग्राहकों के साथ बेहतरीन संबंध विकसित करना।
  • अनुबंधित उत्पाद विनिर्देशों को समय पर निष्पादित करने के लिए डिजाइन और उत्पादन टीमों के साथ सहयोग करना।
  • एसोसिएशन के कार्यक्रमों और सम्मेलनों जैसे – उद्योग के कार्यों में भाग लेना, व्यवसाय के रुझानों पर प्रबंधन टीम से परामर्श करना, बाजार और रचनात्मक प्रवृत्तियों पर प्रतिक्रिया और जानकारी प्रदान करना।
  • प्रगति रिपोर्ट जमा करना और सुनिश्चित करना कि डेटा सटीक और व्यावसायिक नैतिकता के अनुसार अच्छी तरह से प्रबंधित है।

बिजनेस डेवलपमेंट रणनीति सकारात्मक संबंधों को बनाए रखने के लिए काम करती है जो संगठन के लाभ, बाजार पहुंच, ग्राहक आधार और व्यावसायिक प्रतिष्ठा को बढ़ाने के मामले में व्यवसाय को बढ़ाएगी।

इसका प्राथमिक लक्ष्य अपने लक्षित बाजार में अन्य संगठनों के साथ रणनीतिक साझेदारी और संबंध बनाकर कुशल टीम मैनेजमेंट एवं उचित प्लानिंग के साथ बिजनेस की लोंग-टर्म ग्रोथ को डिसाइड करना है।

कंपनी की प्रतिष्ठा व्यवसाय के विकास की कुंजी है। इसके लिए रणनीतिक साझेदारी जरूरी है। रणनीतिक साझेदारी अन्य संगठनों के साथ कोई भी संबंध है जो आपको अपना ग्राहक आधार बढ़ाने और नए बाजारों में जाने में मदद कर सकती है।

छोटे से लेकर बड़े स्थापित निगमों तक किसी भी आकार के व्यवसाय को विकसित करने के लिए रणनीतिक साझेदारी आवश्यक है और इसी से पूरी बिजनेस डेवलपमेंट की प्रोसेस बनती है जो किसी भी स्टार्टअप, कंपनी या बिजनेस संगठन का भविष्य तय करती है।

व्यापार विकास (Business Development) एक व्यवसाय की दीर्घकालिक सफलता और उस सफलता को प्राप्त करने के सर्वोत्तम तरीकों को खोजने पर केंद्रित है। यदि आपका व्यवसाय एक प्रारंभिक चरण का स्टार्टअप है, तो बिजनेस डेवलपमेंट में बहुत सारी व्यावसायिक योजनाएँ होनी चाहिए और रणनीति मुख्य रूप से उत्पाद विकास और सतत विकास पर केंद्रित होनी चाहिए।

संक्षेप में, बिजनेस डेवलपमेंट में यथार्थवादी मूल्यांकन के आधार पर उच्च-स्तरीय निर्णय लेना शामिल है और इसका मुख्य ध्यान एक व्यावसायिक ब्रांड बनाने और लाभ मार्जिन के साथ बाजार में व्यवसाय को टिकाऊ बनाने पर है।

बिजनेस डेवलपमेंट हर बिजनेस के लिए बहुत जरूरी होता है, यह किसी भी बिजनेस का भविष्य तय करता है कि वो बिजनेस कितना आगे बढ़ेगा और कितनी दूर तक जाएगा।