भारत में त्योहारों के दौरान सोना खरीदने के विकल्प

अक्षय तृतीया, रक्षाबंधन, दिवाली, नए वर्ष, होली या किसी भी त्यौहार के अवसर पर भारत में सोने की खरीदारी के कई विकल्प मौजूद है। आप फेस्टिवल सीजन में सोने की खरीदारी करके अपने त्योहार को अच्छा बनाकर अपने घर पर खुशियां ला सकते हैं।

भारत में हर महीने कोई न कोई बड़ा त्यौहार आता रहता है, जिससे बाजार में सोने-चांदी के अलावा सभी प्रकार के सामान की मांग हमेशा बनी रहती है और लोग अपनी सुविधा के अनुसार कीमती धातुएं खरीदकर अपनी खुशियों को कई गुणा करते हैं इसलिए क्या आप भी अपने आने वाले नए त्यौहार के लिए सोना खरीदना चाहते हैं?

भारत में त्योहारों के दौरान सोना खरीदने के विकल्प

आज, निवेश के रूप में सोना केवल गहने या आभूषण खरीदने तक ही सीमित नहीं है, आप सोने को एक इन्वेस्टमेंट विकल्प के रूप में लेकर ई-गोल्ड, गोल्ड ईटीएफ, गोल्ड म्यूचुअल फंड, आदि जैसे कई अन्य माध्यमों से सोने में निवेश कर सकते है।

भारत में सोने की कीमत में तेजी दिख रही है और सोना लगभग 51,000 रुपये प्रति दस ग्राम के भाव पर उपलब्ध है। भारत के लोग होली, दिवाली, रक्षाबंधन, 15 अगस्त आदि त्योहारों पर सोना खरीदना पसंद करते हैं।

सोना खरीदने के सबसे लोकप्रिय तरीकों में भौतिक सोना, सोने के सिक्के, सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड, गोल्ड ईटीएफ, गोल्ड म्यूचुअल फंड आदि में निवेश करना शामिल है। आइए, फेस्टिव सीजन में सोना खरीदने के विकल्पों के बारे में जानते हैं।

सोने के आभूषण खरीदना

यदि आप पहनने योग्य या शादी के गहने खरीदना चाह रहे हैं तो भौतिक सोने के गहने खरीदना आपके लिए सबसे अच्छा तरीका है, लेकिन सुनिश्चित करें कि आपके सोने के आभूषण पर हॉलमार्क का निशान हैं।

आप होलसेल और रिटेल ज्वैलर्स से गोल्ड ज्वैलरी खरीद सकते हैं, लेकिन ध्यान रखें कि गोल्ड ज्वैलरी अलग-अलग कैरेट की होती है, इसलिए 22 कैरेट को ज्वैलरी के लिए प्योर गोल्ड माना जाता है और कोशिश करें कि 22kt ज्वैलरी ही खरीदें।

सोने के सिक्के खरीदना

आप अपनी सुविधा के अनुसार गोल्ड कॉइन खरीद सकते हैं और उन्हें अपने पास रख सकते हैं। ये आपको भविष्य में जैसे-जैसे सोने की कीमत बढ़ेगी आपको अच्छा रिटर्न दे सकते हैं। आज बहुत सारे बड़े घराने ज्वेलरी कि तुलना में सोने के सिक्के ज्यादा खरीदना पसंद करते हैं।

बाजार में 1 ग्राम, 10 ग्राम, 50 ग्राम और उससे अधिक मूल्य के सोने के सिक्के उपलब्ध हैं। निजी कंपनियों के अलावा, सरकारी स्वामित्व वाली MMTC पूरे देश में अपने विभिन्न आउटलेट्स के माध्यम से हॉलमार्क वाले सिक्कों की पेशकश करती है। गोल्ड एटम के सिक्के 24k 999 की शुद्धता के साथ आते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) में निवेश करना

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड डिजिटल युग में बहुत लोकप्रिय हो गए हैं और भारत सरकार भी लोगों को इनमें निवेश करने के लिए आकर्षित कर रही है, इसलिए त्योहारों के अवसर पर भारत में सोना खरीदने के लिए यह डिजिटल प्लेटफॉर्म एक बेहतरीन निवेश विकल्प हो सकता है।

अपने बचत खाते पर विभिन्न शुल्कों को कैसे ट्रैक करें?

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) खरीदने के लिए बस एक डीमैट अकाउंट और एक बैंक अकाउंट की जरूरत होती है। आप इन्हें तब खरीद सकते हैं जब सरकार एसजीबी बांड जारी करती है या स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध होने के बाद आप उन्हें सीधे खरीद सकते हैं।

प्रत्येक एसजीबी (SGB) का कार्यकाल आठ साल का होगा जबकि समय से पहले मोचन पांच साल के बाद किया जा सकता है। SGB में निवेश पर 2.5 प्रतिशत की ब्याज दर भी मिलती है।

गोल्ड ईटीएफ (ETF) में निवेश करना

गोल्ड ईटीएफ में निवेश करना आपके लिए सोने में निवेश करने का एक बढ़िया विकल्प हो सकता है। लोग त्योहारी सीजन के दौरान गोल्ड ईटीएफ में भारी निवेश करते हैं ताकि उन्हें भविष्य में अच्छा रिटर्न मिल सके।

गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (G-ETF) स्टॉक एक्सचेंजों पर उपलब्ध होते हैं और स्टॉक एक्सचेंज के सभी व्यापारिक दिनों में इनकी इकाइयों को खरीदा या बेचा जा सकता है। इनकी कीमतें उस दिन देश में प्रचलित सोने की वास्तविक कीमत के आस-पास रहती हैं।

कुछ प्रमुख ईटीएफ में मुख्य रूप से शामिल है – Quantum Gold Fund (ETF), UTI GOLD Exchange Traded Fund, ICICI Prudential Gold ETF, HDFC Gold Exchange Traded Fund.

ई-गोल्ड – इलेक्ट्रॉनिक रूप में सोना खरीदना

भारत में सोने के अन्य निवेश विकल्पों में से एक ई-गोल्ड या डिजिटल गोल्ड है। यहां निवेश करने के लिए, किसी के पास निर्दिष्ट नेशनल स्पॉट एक्सचेंज (NSE) डीलरों के साथ एक ट्रेडिंग खाता होना चाहिए।

समय के बदलाव के साथ भारत में इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से सोने में निवेश करना और खरीदारी करना एक अन्य विकल्प उभर कर सामने आया है जो एक सिंगल क्लिक पर लोगों को अपने बजट के अनुसार अपने पोर्टफोलियो में सोने को शामिल करने की आजादी देता है।

ई-गोल्ड यूनिट्स को शेयरों की तरह ही एक्सचेंज के जरिए खरीदा और बेचा जा सकता है। एक ई-गोल्ड यूनिट एक ग्राम सोने के बराबर होती है। लंबी अवधि में निवेश करने के इच्छुक निवेशकों के लिए यह एक लाभदायक विकल्प हो सकता है।

गोल्ड म्यूचुअल फंड में निवेश करना

अगर आप ज्यादा जोखिम नहीं लेना चाहते हैं और आपके पास ज्यादा निवेश का अनुभव नहीं है, तो त्योहारी सीजन में निवेश करने के लिए गोल्ड म्यूचुअल फंड आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। यहां आप बिना किसी विशेष निवेश ज्ञान के और लगभग बिना किसी जोखिम के अच्छा आउटपुट प्राप्त कर सकते हैं।

आप अपनी सुविधा के अनुसार म्यूचुअल फंड के बारे में शुरुआती जानकारी प्राप्त करके गोल्ड म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू कर सकते हैं। यहां, निवेश करना एक साधारण म्यूचुअल फंड में निवेश करने के समान ही है।

गोल्ड म्यूचुअल फंड ऐसी योजनाएं हैं जो मुख्य रूप से गोल्ड ईटीएफ और अन्य संबंधित परिसंपत्तियों में निवेश करती हैं। यहां निवेश करने के लिए आपको डीमैट खाते की जरूरत नहीं होती है। साथ ही, यहां आप एक्सचेंज ट्रेडेड फंड के विपरीत पूरी यूनिट खरीदने के लिए बाध्य भी नहीं होते हैं।

आप अपने बजट और निवेश क्षमता के अनुसार गोल्ड म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं यानी अगर आपके पास गोल्ड में निवेश करने के लिए 1000 रुपये हैं तो आप गोल्ड म्यूचुअल फंड में यूनिट खरीद सकते हैं। आप इनमें SIP निवेश विकल्प के माध्यम से भी निवेश कर सकते हैं।

आप भारत में विभिन्न त्योहारों के दौरान सोना खरीदने का कोई भी विकल्प चुन सकते हैं और भविष्य में अच्छा रिटर्न पाने के लिए अपने पैसों को सोने में निवेश कर सकते हैं।

हम आप सभी से अनुरोध करते हैं कि आप सिर्फ रखने के लिए सोना न खरीदें, इसे निवेश का माध्यम बनाकर निवेश करें, निश्चित रूप से आपको 5 साल बाद बहुत अच्छा रिटर्न मिलेगा।