पीढ़ीगत धन (Generational Wealth)

मैं और मेरी पत्नी अक्सर उन पाठों के बारे में बात करते हैं जो अपने बच्चों को वेल्थ मैनेजमेंट के बारे में सिखाना चाहते हैं। कैसे वे जीवन में आर्थिक रूप से जिम्मेदार वयस्क बनकर अपनी खुद की वित्तिय सहायता कर सकते है। इन सभी में एक बात जो अक्सर सामने आती है वह है पीढ़ी दर पीढ़ी संपत्ति (Generational Wealth) बनाने की हम सभी की इच्छा।

पिछले कुछ वर्षों से न केवल भारत में बल्कि पूरे विश्व में पीढ़ीगत धन (Generational Wealth) एक प्रमुख केंद्र बना हुआ है। किसी भी परिवार के सदस्य से पीढ़ी-दर-पीढ़ी धन का हस्तांतरण होता है, जो हमेशा वंशानुगत होता है। आप Gift Letter और इसके इस्तेमाल के बारे में भी जान सकते है।

पीढ़ीगत धन क्या है या जनरेशनल वेल्थ क्या है?

पीढ़ीगत संपत्ति यानी जनरेशनल वेल्थ एक परिवार की एक पीढ़ी द्वारा दूसरी पीढ़ी को हस्तांतरित संपत्ति को संदर्भित करती है। उन संपत्तियों में जमीन जायदाद, निवेश, पैसा, पारिवारिक व्यवसाय या मौद्रिक मूल्य के साथ कुछ भी – जिसे आप एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को हस्तांतरित करते है आदि शामिल है।

परिवार के मुखिया द्वारा बनाई गई वर्षों की संपत्ति को अपने परिवार के किसी भी उतराधिकारी या सदस्य को कानूनी रूप से हस्तांतरित कर देना वंशानुगत या पीढ़ीगत धन कहलाता है, जिसका प्रयोग बिना किसी कानूनी बाधा के वह उत्तराधिकारी कर सकता है।

मृत्यु के बाद पीढ़ीगत धन का हस्तांतरण

भारतीय कानून के अनुसार, परिवार के मुखिया की मृत्यु के बाद पीढ़ीगत संपत्ति स्वतः ही उसके उत्तराधिकारी या वारिस को हस्तांतरित हो जाती है।

उत्तराधिकारी यानी बेटा या बेटी, या बेटा-बेटी न होने की स्थिति में कोई भी करीबी रिश्तेदार उस संपत्ति को बिना किसी बाधा के कानूनी रूप से इस्तेमाल कर सकता है, बेच सकता है, उस पर कर्ज ले सकता है।

लेकिन, आज यह परिदृश्य बदल गया है, लोग अपनी संपत्ति का कुछ प्रतिशत दान करते हैं, यहां तक कि कुछ लोग अपनी सारी संपत्ति का 90% तक दान कर देते हैं।

धन सृजन का यह परिदृश्य अब बदल रहा है और आने वाले कुछ वर्षों में ओर बदलेगा और अधिकांश लोग अपनी संपत्ति को वंशानुगत हस्तांतरित न करके, किसी योग्य व्यक्ति को या समाज के हित में हस्तांतरित करेंगे।

आपको जनरेशनल वेल्थ ट्रांसफर करने के लिए हमेशा मरने की आवश्यकता नहीं है, आप अपनी मर्जी से भारतीय कानून के अनुसार किसी को भी Will लिखकर यह वेल्थ ट्रांसफर कर सकते हैं।

आप अपनी इच्छा से गिफ्ट के रूप में, कोई भी खर्चा करके, मेडिकल इंश्योरेंस लेकर, स्टॉक व प्रॉपर्टी खरीद कर या लाइफ इंश्योरेंस कवर प्रदान करके भी अपनी संपत्ति को डायरेक्ट और इनडायरेक्ट रूप से हस्तांतरित कर सकते हैं।

जनरेशनल वेल्थ और वेल्थ गैप

एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 10% लोगों के पास पूरी भारतीय अर्थव्यवस्था की 90% संपत्ति है, जबकि 50% लोगों के पास केवल 10% संपत्ति है। यह अंतर दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है जो भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए गलत संकेत है।

इस गैप को दूर करने के लिए भारत सरकार और हम सभी को बेहतरीन बिजनेस आइडिया और स्टार्टअप आइडिया लाकर के टेक्नोलॉजी की मदद से इंप्लीमेंट कर रोजगार सर्जन करना होगा।

यह जिम्मेदारी सिर्फ भारत सरकार की ही नहीं है बल्कि हम सभी की बनती है इसीलिए ज्यादा से ज्यादा स्किल एक्वायर करने की कोशिश करें और बे-फालतू का समय बर्बाद करने से बचें, यही आप और हम सभी के लिए एक बेहतरीन विकल्प है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 90% कंपनियों और कॉरपोरेट्स के पास रोजगार है लेकिन उन्हें आवश्यक कौशल व्यक्ति नहीं मिलता है, इसलिए वे रोजगार देने में असमर्थ हैं और उन्हें मजबूरी में विदेशी व्यक्ति या एजेंसी को काम देना पड़ता है।

क्या आप इतने कमजोर हैं कि भारत में कई नौकरियां होने के बावजूद भी आप उन्हें नहीं पा सकते, तो निश्चित रूप से यह हमारी शिक्षा प्रणाली में डिफ़ॉल्ट है, जिसे आप इंटरनेट की मदद से घर बैठे नॉलेज प्राप्त करके दूर कर सकते हैं और अपनी आवश्यकता के अनुसार इंटरनेट से कोई भी कौशल या स्किल सीखकर भारतीय अर्थव्यवस्था में योगदान कर सकते है।

पीढ़ीगत धन का निर्माण कैसे करें?

जनरेशनल वेल्थ का निर्माण करने के लिए आपको कोई विशेष जादू की आवश्यकता नहीं है। बस, आपको अपनी वर्तमान पूंजी को सही जगह पर लगाना है या आप एक बेहतरीन स्किल सीखकर टेक्नोलॉजी की सहायता लेकर के आने वाले कुछ समय में आप एक अच्छी वेल्थ जनरेट कर सकते हैं। यह सब आपकी कैपेबिलिटी पर निर्भर करता है।

रियल एस्टेट में निवेश करें

भारत में रियल एस्टेट उभरता हुआ और बूमिंग सेक्टर है इसमें आप निवेश करके अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए वेल्थ जनरेट कर सकते हैं। शुरुआत में आपको कई समस्याएं हो सकती हैं, लेकिन जैसे-जैसे आप लोगों से संपर्क करेंगे, आपको अनुभव होता जाएंगा और ये मुश्किलें खत्म हो जाएंगी।

स्टॉक मार्केट में निवेश करें

पीढ़ीगत संपत्ति बनाने और पैसा कमाने के लिए स्टॉक मार्केट एक बहुत ही शानदार प्लेटफार्म है। यहां आप कम से कम पैसों में शुरुआत करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। बस आपको फ्री में इंटरनेट से स्टॉक मार्केट के बारे में जानकारी प्राप्त करनी है और निवेश शुरू करना है और धीरे-धीरे ग्रोथ हासिल करनी है।

बच्चों की शिक्षा में निवेश करें

आज हर जगह एजुकेशन की इंपोर्टेंस बहुत मानी जाती है इसलिए आपको आपके बच्चों को उचित स्कूल, कॉलेज और प्रोफेशनल कोर्स में एनरोल कराना चाहिए ताकि उनका वित्तीय भविष्य सुरक्षित रहे और आप इनडायरेक्ट रूप से परंपरागत वेल्थ को ट्रांसफर करने में कामयाब रहें। आपको बस अपने खर्चे और स्कूल की फीस को संतुलित करके आगे बढ़ना है।

कोई अच्छा बिजनेस शुरू करें

बिजनेस और स्टार्टअप की मांग हमेशा से बनी हुई है और भविष्य में बनी रहेंगी इसीलिए आप उचित नॉलेज प्राप्त करके कोई अच्छा बिजनेस शुरू कर सकते है और अपनी आने वाली पीढ़ी को वेल्थ के रूप में एक अच्छा बिजनेस ब्रांड प्रॉपर्टी के रूप में दे सकते हैं। इससे बड़ा तोहफा वेल्थ के रूप में आपकी संतान के लिए ओर कुछ नहीं हो सकता।

मेडिकल व जीवन बीमा कवर प्रदान करें

कोरोना के बाद, मेडिकल कवर और जीवन बीमा की मांग बहुत ज्यादा बढ़ गई है। किसी भी अनिश्चित बीमारी से बचाव के लिए आप अपने चहेतों को मेडिकल या जीवन बीमा कवर दे सकते हैं और उनका भविष्य वित्तीय रूप से मेडिकल बीमा पॉलिसी की सहायता से सुरक्षित कर सकते हैं। लोग अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए मेडिकल और लाइफ कवर को ज्यादा अहमियत दे रहे हैं।

आप अपनी वंशानुगत संपत्ति विल (Will) लिखकर किसी को भी ट्रांसफर कर सकते हैं। आप इसके लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र है लेकिन यदि आपकी मृत्यु बिना जनरेशनल वेल्थ को ट्रांसफर करें हो जाती है तो भारतीय कानून के अनुसार आपकी संतान या संतान ना होने के केस में आपके सगे-संबंधीयों को यह ऑटोमेटिक ट्रांसफर हो जाती है।